लौकी का जूस पीने के फायदे और नुकसान – Louki ke Fayde aur Nuksan

लौकी का जूस पीने के फायदे और नुकसान

लौकी का जूस पीने के फायदे और नुकसान – लौकी का सेवन ज्यादातर सब्जियों के रूप में किया जाता है। लौकी खाने के कई फायदे होते हैं। आयुर्वेद में लौकी को ओषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। जरूरत से ज्यादा कोई भी चीज का सेवन करने के नुकसान होते हैं। लौकी का जूस पीने के फायदे तो होते हैं लेकिन ज्यादा पीने से नुकसान भी होते हैं।

लौकी जूस पीने के फायदे और नुकसान – Louki Juice ke Fayde aur Nuksan

लौकी जूस के फायदे – Benefits of Louki Juice

लौकी का जूस सुबह-सुबह वर्कआउट करने वालों के लिए फायदेमंद होता है। लौकी के रस में नेचुरल शुगर मौजूद होता है जो शरीर में ग्लाइकोजीन स्तर को नियंत्रित करता है और कार्बोहाइड्रेट की कमी को भी पूरा करता है।

लौकी का जूस कब्ज की समस्या में लाभकारी होता है। जिन लोगों को कब्ज की समस्या की शिकायत है उन्हें रोज सुबह लौकी का रस पीना चाहिए, यह फायदेमंद होता है। लौकी में मौजूद फाइबर हमारे शरीर के पाचन तंत्र को ठीक रखते हैं।

लौकी में कैलोरी और फैट कम मात्रा में होता है। जिनको मोटापे की समस्या है उनके लिए लौकी का जूस फायदेमंद होता है। लौकी में मौजूद फाइबर बार-बार भूख लगने की समस्या को नियंत्रित करता है।

यह भी पढ़ें -   किडनी स्टोन से हैं पीड़ित तो ना खाएं इन चीजों को, रहें स्वस्थ

एक गिलास लौकी का जूस पीने से एनर्जी और ताजगी मिलती है। लौकी के रस में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स हमारे शरीर के विषाक्त तत्वों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके हमारे शरीर की अंदरूनी गंदगी साफ होती है और शरीर को ठंडक मिलती है।

कई लोगों को यूरिन के वक्त जलन या दर्द होता है। उनके लिए लौकी का जूस फायदेमंद होता है। लौकी का जूस यूरिन में एसिड की मात्रा को कम करने में मदद करता है। इससे टॉयलेट के वक्त जलन या दर्द की समस्या में राहत मिलती है।

लौकी जूस के नुकसान – Side Effects of Louki Juice

लौकी का जूस ज्यादा पीने से दस्त और उल्टी की समस्या हो सकती है। कई बार यह बैक्टिरियल इंफेक्शन का कारण भी बन जाता है। इसलिए सही से साफ करके ही जूस बनाएं।

लौकी में हानिकारक पेस्टीसाइट्स और ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन देकर बड़ा किया जाता है। यह जूस खतरनाक होता है। इसे पीने से एलर्जी हो सकती है। चेहरे पर दाने, खुजली, भूख में कमी, पैरों में सूजन की समस्या होने लगती है।

यह भी पढ़ें -   छाछ पीने के फायदे और नुकसान, छाछ कब पीना चाहिए

जरूरत से ज्यादा लौकी का जूस पीने से शरीर में एंटी-ऑक्सीटेंड या विटामिन ई की मात्रा बढ़ जाती है और यह कैंसर जैसे रोग का कारण बन सकता है।

लौकी का जूस ज्यादा पीने से शरीर में पोटेशियम का स्तर बढ़ जाता है। इससे ब्लड प्रेशर असामान्य रूप से कम हो जाता है और हाइपोटेंशन नामक बीमारी का खतरा बना रहता है।

डायबिटीज की समस्या से पीड़ित लोग यदि लौकी जूस का अधिक सेवन करते हैं तो ऐसे में शरीर में शुगर के स्तर को यह अचानक बहुत कम कर सकता है। इससे बेहोशी आ सकती है।

लौकी की जूस पीने के बाद यदि अत्यधिक पसीना आने लगे, भूख बहुत लगे या लगना ही बंद हो जाए, बेहोशी, थकान के साथ ही धुंधला दिखने लगे, एलर्जी होने लगे तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

FAQs – प्रश्न और उत्तर

जूस कब पीना चाहिए?

सुबह नाश्ते में जूस का सेवन किया जा सकता है। खाना खाते समय जूस पीने से खाना जल्दी पच जाता है। जूस का सेवन मौसम के अनुसार करना चाहिए। जूस पीने से शरीर में जरूरी फाइबर की कमी पूरी हो जाती है।

यह भी पढ़ें -   चुकंदर और गाजर का जूस पीने के फायदे, खून की कमी और कैंसर में लाभदायक
फ्रूट जूस पीने का सही समय क्या है?

फ्रूट जूस पीने के सबसे सही समय है सुबह नाश्ते के 2 घंटे बाद। साथ दोपहर को खाना खाने के दो घंटे बाद भी जूस पी सकते हैं।

गर्मी में कौन सा जूस पीना चाहिए?

गर्मी में मौसमी, केला, चीकू, तरबूज, खरबूज, आम और लीची जैसे फल का जूस पीना चाहिए। गर्मी के समय इन फलों का जूस पीने से लाभ मिलता है।

क्या खाली पेट जूस पीना चाहिए?

एक्सपर्ट के अनुसार, खाली पेट कोई भी मीठा पेय पीने से अग्न्याशय पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है, इससे पाचन क्रिया खराब हो जाती है। खाली पेट जूस पीने से लिवर से जुड़ी समस्या हो सकती है।

कमजोरी में कौन सा जूस पीना चाहिए?

शरीर में कमजोरी होने पर डॉक्टर मौसमी की जूस पीने की सलाह देते हैं। सुबह के वक्त एक्सरसाइज के बाद नाश्ते में हल्का जूस का सेवन कर सकते हैं।

नोट – यह एक सामान्य जानकारी है। इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के तौर न लें। अन्य जानकारियों के लिए हमारे होमपेज पर जाएं।