पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी एम्स में भर्ती, हालत स्थिर

Former PM Atal Bihari Vajpayee recruited in AIIMS, condition stable

नई दिल्ली। भारत रत्न से सम्मानित पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया है। 11 जून उन्हें रूटीन चेकअप के लिए नई दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती कराया गया था। वाजपेयी को एम्स में भर्ती कराये जाने के बाद अस्पताल में विशिष्ट लोगों का आना-जाना लगा हुआ है।

पूर्व पीएम से मिलने और हालचाल लेने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी, पूर्व उपप्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी सहित कई दिग्गज नेता एम्स पहुंचे। प्रधानमंत्री करीब 50 मिनट तक एम्स में रहे। उन्होंने पूर्व पीएम वाजपेयी के परिवार से बातचीत की और एम्स के डॉक्टरों से स्थिति की जानकारी ली।

बता दें कि 11 जून को पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी को एम्स में भर्ती कराये जाने के बाद उनकी तबीयत को लेकर कई तरह की बातें होने लगी थी। हालांकि बाद में बीजेपी ने कहा कि पूर्व पीएम वाजपेयी को रूटीन चेकअप के लिए एम्स में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें -   रामनाथ कोविंद ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ, पढ़ें उनके संघर्षों के बारे में

93 वर्षीय वाजपेयी लंबे समय से बीमार चल रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देर शाम उनका हालचाल जानने एम्स पहुंचे। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी वाजपेयी का हालचाल जानने एम्स पहुंचे। वाजपेयी का एम्स में कार्डियक केयर यूनिट (सीसीयू) में इलाज किया जा रहा है।

पूर्व पीएम वाजपेयी के स्वास्थ्य को लेकर एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया की देखरेख में चार विभागों के डॉक्टर उनका इलाज कर रहे हैं। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि उनकी हालत स्थिर है, लेकिन उन्हें अभी अस्पताल से छुट्टी नहीं दी जाएगी।

यह भी पढ़ें -   कुपवाड़ा में पाक सेना ने किया युद्धविराम का उल्लंघन, 1 की मौत, 4 घायल

बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया (भूलने की बीमारी) से जूझ रहे हैं। वह 2009 से ही व्हीलचेयर पर है। उन्हें 27 मार्च 2015 को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। उनका जन्मदिन (25 दिसंबर) सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाता है।

बता दें पूर्व पीएम वाजपेयी का इलाज एम्स के डॉक्टर घर पर ही करते रहे हैं। लेकिन इस बार उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था। अटल बिहारी वाजपेयी तीन बार देश के पीएम रह चुके हैं। वह 1996 में 13 दिन के लिए पीएम बने, फिर दूसरी बार 1998 में फिर प्रधानमंत्री बने। 13 अक्टूबर 1999 को वह तीसरी बार पीएम बने। इस बार उन्होंने 2004 तक अपना कार्यकाल पूरा किया।

यह भी पढ़ें -   इंडोनेशिया में भूकंप और सूनामी में 400 से ज्यादा लोगों की मौत

बता दें कि वाजपेयी 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए थे। वह बतौर प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूर्ण करने वाले पहले और अभी तक एकमात्र गैर-कांग्रेसी नेता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *