राम मंदिर शिलान्यास के बाद दिग्विजय सिंह ने की 14 साल वनवास की बात, हुए ट्रोल

राम मंदिर शिलान्यास

नई दिल्ली। 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का शुभारंभ हो गया है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण पर कई पक्ष और विपक्ष ने नेताओं ने अपनी शुभकामनाएं देशवासियों को दिया। लेकिन दूसरी तरफ दिग्विजय सिंह का राम मंदिर निर्माण पर अपनी अलग ही राय है।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने लिखा- क्या राम मंदिर शिलान्यास के बाद हम राम राज्य की उम्मीद करें? भगवान राम ने अपने पिता द्वारा दिए गए वचन निभाने के लिए 14 वर्षों तक वनवास काटा, क्या हमारे नेता भी वचन को निभायेंगे? दिग्विजय सिंह के इस बयान के बाद उन्हें काफी ट्रोल्स का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़ें -   पीएम मोदी ने किया केएमपी एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन, अब मेट्रो बल्लभगढ़ तक जाएगी

यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करते हुए लिखा “अपने तो खुद ही बता दिया कि 2024 तक तो कांग्रेस कि वनवास अवधि 10 वर्ष ही हुई, इसलिए अभी 2029 के चुनाव से पहले अपने नेताओं को बोल दो ऐश करें। हाँ वो जो आपका बड़ा नेता विदेश भाग जाता है ऐश करने, वह भी अभी 9 वर्ष मौज मना ले।” एक ने पूछा कि पहले आप तो संन्‍यास ले लो।

वहीं एक अन्य यूजर ने पूछा – “राजा साहब आप का वनवास अभी चल रहा है और चलता ही रहेगा। अब राजनीति की उम्मीद मत करना। चुपचाप घर पर बैठो। अज्ञातवास में तू भी फेल, तेरा बेटा भी फेल।” एक यूजर ने लिखा “हमारे नेता जो वचन देते हैं, उसका उल्टा करते हैं। उदाहरण- 2 करोड़ नौकरी प्रतिवर्ष दूंगा कहा, स्थिति- 6 साल में 12 करोड़ बेरोजगार हुये। इसी तरह बैंक, रेल निजीकरण इससे भी बढ़कर सीमाओं से समझौता।”

यह भी पढ़ें -   ट्रंप की धमकी पर विदेश मंत्रालय ने दिया जवाब, पहले अपने लोग जरूरी

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर भूमि पूजन के मुहूर्त को लेकर सवाल उठाया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि अयोध्या में भगवान रामलला के मंदिर का शिलान्यास वेद द्वारा स्थापित ज्योतिष शास्त्र की स्थापित मान्यताओं के विपरित हो रहा है। हे प्रभु हमें क्षमा करना। यह निर्माण निर्विघ्न रूप से पूरा हो यही हमारी प्रार्थना है। जय सिया राम।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।