पाकिस्तान के नए नक्शे को भारत ने बताया बेहूदा कदम, कहा-कोई कानूनी मान्यता नहीं

जम्मू-कश्मीर

नई दिल्ली। World News – पाकिस्तान ने नेपाल से एक कदम आगे बढ़ते हुए भारत के एक बड़े इलाके को अपना दावा किया है। पाकिस्तान की सरकार (Pakistan Government) द्वारा नया नक्शा पेश करते हुए समेचू जम्मू-कश्मीर (Jamnu and Kashmir) और यहां तक कि गुजरात (Gujarat) के जूनागढ़ को भी अपना हिस्सा बताया है। पाकिस्तान का यह कदम एक राजनीतिक फायदे के लिए लिया गया कदम लगता है।

पाकिस्तान की सरकार के इस हरकत पर भारत ने भी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारत सरकार (Indian Government) ने कहा है कि पाकिस्तान का यह कदम राजनीतिक इरादे से की गई बेहूदगी का उदाहरण है। इस तरह के बेतुके कदमों की कोई कानूनी मान्यता नहीं होती और न ही कोई अंतरराष्ट्रीय विश्वसनीयता।

भारतीय विदेश मंत्रालय (Indian Foreign Ministry) ने कहा कि इस तरह के कदम पाक समर्थित सीमापार आतंकवाद (Terrorist) को लेकर उसका असली चेहरा उजागर करते हैं। पाकिस्तान की तरफ से जारी किए नक्शे में जम्मू-कश्मीर को अवैध रूप से भारत के कब्जे में बताया गया है। पाकिस्तान ने कहा है कि इस नए नक्शे को पूरे पाकिस्तान में बच्चों को पढ़ाया जाएगा।

बता दें कि पाकिस्तान का यह बचकाना हरकत ठीक 5 अगस्त के एक दिन पहले उठाया गया है। भारत सरकार ने अपने जम्मू-कश्मीर इलाके से 5 अगस्त के ठीक एक साल पहले धारा 370 हटाया था। 5 अगस्त 2020 को इसकी बरसी थी। पाकिस्तान की इमरान सरकार ने नए नक्शे को जम्मू-कश्मीर में भारत सरकार के 5 अगस्त के फैसले के खिलाफ बताया है।

चीन ने कहा एकतरफा फैसला

वहीं पाकिस्तान की इस हरकत पर चीन ने उलटे भारत सरकार के फैसले को गलत बताया। चीन ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से 370 हटाना भारत सरकार का एकतरफा फैसला था। चीन ने कहा कि इलाका भारत और पाकिस्तान के बीच का मसला है। दोनों देशों के यह मामला एक-दूसरे के साथ मिलकर सुलझाना चाहिए।

नेपाल अपना नक्शा संयुक्त राष्ट्र भेजेगा

दूसरी तरफ नेपाल अपने नए राजनीतिक नक्शे को जल्द ही संयुक्त राष्ट्र और गूगल के भेजने की तैयारी में है। नेपाल ने भारतीय इलाकों लिपूलेख, कालापानी जैसे सीमावर्ती इलाकों पर अपना दावा किया था।