देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो चल पड़ी, पीएम मोदी ने दिखाई हरी झंडी

ड्राइवरलेस मेट्रो

नई दिल्ली। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह मेट्रो दिल्ली मेट्रो के जनकपुरी पश्चिम से लेकर बॉटनिकल गार्डन तक चलेगी। इस रूट की कुल लंबाई 37 किलोमीटर है। पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ड्राइवरलेस मेट्रो ट्रेन को हरी झंडी दिखाई।

बता दें कि आज से तीन साल पहले दिल्ली मेट्रो की मैजेंटा लाइन की शुरुआत हुई थी। पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली में पहली मेट्रो अटलजी के प्रयासों से चली। 2014 में जब हमारी सरकार बनी तो तब केवल 5 शहरों में मेट्रो रेल थी। आज 18 शहरों में ये सेवा है।

यह भी पढ़ें -   India China Tension के बीच आर्मी चीफ और सेना के शीर्ष कमांडरों के बीच बैठक
2025 तक 25 से ज्यादा शहरों को मेट्रो का तोहफा

पीएम मोदी ने कहा, “2025 तक 25 से ज्यादा शहरों में विस्तार कर देंगे। मेट्रो का विस्तार 700 किमी से ज्यादा है। 2025 में इसका विस्तार 1700 किमी करने पर विचार कर रहे हैं। अब 25 लाख लोग रोज मेट्रो से सवारी करते हैं। ये ईज ऑफ लिविंग का सबूत है। ये देश के मिडिल क्लास के सपने पूरे होने के साक्ष्य हैं।”

पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि ब्यूरोक्रेसी वही है, सब वही है, लेकिन काम तेजी से हुआ। पहले केवल ऐलान किए जाते थे। हमने मेट्रो को लेकर पॉलिसी बनाई और नई रणनीति को लागू किया। स्थानीय मानकों को बढ़ावा दिया और आधुनिक तकनीक पर जोर दिया।

यह भी पढ़ें -   विशाखापट्टनम: मृतकों की संख्या हुई 8, पीएम मोदी बोले - मामले पर कड़ी निगरानी

प्रधानमंत्री ने कहा, “हमने ध्यान दिया कि मेट्रो का विस्तार वहां की लाइफ स्टाइल के हिसाब से ही होना चाहिए। हर शहर में इस पर अलग तरह से काम हो रहा है। जहां यात्री संख्या कम है, वहां मेट्रो लाइट पर काम हो रहा है। जहां वॉटर बॉडी है, वहां वॉटर मेट्रो पर काम किया जा रहा है। आज मेट्रो सुविधा-संपन्न माध्यम भर नहीं है, यह प्रदूषण कम करने का भी जरिया है।”

आत्मनिर्भर भारत अभियान को बल मिला

पीएम मोदी ने कहा कि अब देश की चार बड़ी कंपनियां ही मेट्रो कोच पर काम कर रही हैं। इससे आत्मनिर्भर भारत अभियान को मदद मिल रही है। मुझे अभी बिना ड्राइवर वाली मेट्रो का उद्घाटन करने का सौभाग्य मिला। हमारा देश दुनिया के उन चुनिंदा देशों में शामिल हो गया है, जहां ये सुविधा है।

यह भी पढ़ें -   कोरोना से राहत की उम्मीद: क्या मई से मरने लगेगा कोरोना वायरस?