मजदूरों से किराया पर घमासान, तेजस्वी यादव ने कहा- 50 ट्रेनों का किराया राजद देगा

मजदूरों से किराया

पटना। बिहार के प्रवासी मजदूरों और छात्रों की घर वापसी पर बिहार में संग्राम मच गया है। कई जगहों से सूचना आई थी कि ट्रेन में सफर करते हुए छात्रों और प्रवासी मजदूरों से किराया लिया गया। जिसके बाद बिहार के विपक्षी दलों ने सरकार के घेरना शुरू कर दिया। लगातार शिकायतों के बाद बिहार सरकार ने अब नया फैसला लिया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि लॉकडाउन में बिहार के प्रवासी मजदूरों और छात्र-छात्राओं का किराया राज्य सरकार देगी। उनसे किराया नहीं लिया जाएगा। बता दें कि पिछले दिनों राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने कहा था कि वह 50 ट्रेनों का किराया देने को तैयार हैं।

50 ट्रेनों का किराया राजद देगा-तेजस्वी यादव

यह भी पढ़ें -   पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर सरकार ने कंसा शिकंजा, 108 सदस्य गिरफ्तार

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा था कि आदरणीय नीतीश कुमार जी, गरीब मजदूरों की तरफ से 50 ट्रेनों का किराया राजद वहन करने के लिए एकदम तैयार है, क्योंकि डबल इंजन सरकार सक्षम नहीं है। कृप्या अब अविलंब प्रबंध करवाइए। सुशील मोदी जी- कुल जोड़ बता दीजिए, तुरंत चेक भिजवा दिया जाएगा। वैसे भी आपको खाता-बही देखने का शौक है।

उधर लगातार आलोचना झेल रही नीतीश सरकार ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर से घर जाते वक्त राज्य सरकार उन लोगों को आने का पूरा खर्च और 500 रुपए अतिरिक्त देगी। हर व्यक्ति को कम से कम 1000 रुपए मिलेंगे।

यह भी पढ़ें -   कोरोना से संक्रमित मृतकों के परिवार के लिए केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान

लॉकडाउन में फंसे बिहार के मजदूरों और छात्रों से किराया लिए जाने के बाद बिहार में राजनीति होने लगी। जिसके बाद राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा था कि अगर बिहार सरकार किराया देने में सक्षम नहीं है तो बताए राजद 50 ट्रेनों का किराया देगा।