मेड इन इंडिया: पहली बार विमान उड़ेगा 19 यात्रियों को लेकर आसमान में

नई दिल्ली। स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के लिए किये जा रहे केंद्र सरकार के प्रयास को अब पंख लगना शुरू हो गया है। पहली बार भारत में बना विमान आसमान में उड़ेगा। विमान की क्षमता 19 यात्रियों की है। यह विमान स्वदेशी तकनीक से निर्मित है। इसे सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने बनाया है। यह एक डॉर्नियर विमान है और विमान ने परीक्षण को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है।

डॉर्नियर-228 विमान को नागरिक उड्डयन महानिदेशायल (डीजीसीए) ने व्यावसायिक उड़ान की अनुमति दे दी है। सशस्त्र बल पहले से ही इस विमान का प्रयोग कर रही है। हाल ही में कानपुर हवाई अड्डे पर इसका सफल परीक्षण पूरा कर लिया गया। बता दें कि कानपुर स्थित एचएएल का 1960 से ही ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट डिवीजन है। यह पहला मौका है जब किसी घरेलू कंपनी द्वारा निर्मित विमान को डीजीसीए ने कमर्शियल उड़ान की मंजूरी दी है।

यह भी पढ़ें -   मोदी मंत्रिमंडल से उपेंद्र कुशवाहा का इस्तीफा, कांग्रेस ने दी बधाई

पढ़ें: एक विरासत: आधुनिक भारत के प्रथम राष्ट्रपति भारतरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद

डीजीसीए की मंजूरी मिलने के बाद अब एचएएल भारत में कई एयरलाइंस कंपनियों को इसकी ब्रिक्री कर सकेगी। अधिकारियों के मुताबिक, इस विमान के इस्तेमाल में कुछ छूट भी दी सकती है ताकि देश में स्वदेशीकरण को बढ़ावा दिया जा सके। कंपनी इस विमान को निर्यात करने के बारे में भी सोच रहा है। एचएएल इस विमान का निर्यात नेपाल और श्रीलंका को कर सकती है।

यह भी पढ़ें -   हरिवंश नारायण सिंह बने राज्यसभा उपसभापति, पीएम मोदी ने दी बधाई

डॉर्नियर-228 का इस्तेमाल एक एयर टैक्सी के रूप में किया जा सकता है। केंद्र की मोदी सरकार द्वारा स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के प्रयाशों के मद्देनजर इसे एक बेहतरीन सफलता कहा जा सकता है। इससे देश में स्वदेशीकरण को बढ़ावा मिलेगा और देश की निर्भरता भी दूसरे देशों में कम किया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें:

आठ घंटे से ज्यादा नींद लेते हैं तो हो जाइए सावधान

ये है अमेरिका का एरिया 51, दफन हैं कई अनसुलझे राज !

यह भी पढ़ें -   रामनाथ कोविंद ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ, पढ़ें उनके संघर्षों के बारे में

दुनिया का सबसे खतरनाक देश है पाकिस्तान, जानें कितने नंबर पर है भारत


मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *