एक बार फिर संपूर्ण बिहार में लग सकता है लॉकडाउन, जानिए वजह

बिहार में लॉकडाउन

पटना। बिहार में कोरोना के मामले थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसे देखते हुए एक बार फिर बिहार में कम्पलीट लॉकडाउन लगाया जा सकता है। इसका फैसला आज के क्राइसिस मैनेजमेंट बैठक में लिया जा सकता है। बता दें कि यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए की जाएगी।

गौरतलब है कि राजधानी पटना में अनलॉक होते ही कोरोना के मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने यहां 10 से 16 जुलाई तक पूर्ण लॉकडाउन लागू किया गया है।

इस लॉकडाउन में बिहार के 11 जिलों में फिर से लॉकडाउन लगा दिया गया है। इनमें राजधानी पटना के साथ ही कैमूर, बक्सर, नवादा, सुपौल, मधेपुरा, खगड़िया, मुंगेर, किशनगंज, मुजफ्फरपुर,पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, नालंदा, भागलपुर, बेगूसराय, मधेपुरा शामिल है। इन जिलों में अलग-अलग दिन लॉकडाउन जारी किया गया था।

यह भी पढ़ें -   शिया वक्फ बोर्ड ने कहा, विवादित जगह पर बने राममंदिर, मस्जिद थोड़ी दूर पर

इस दौरान शहर में ज़रूरी सेवाओं को छोड़कर सबकुछ बंद है। लॉकडाउन के पॉजिटिव परिणाम को देखते हुए अब पूरे राज्य में कम्प्लीट लॉकडाउन पर फैसला लिया जा सकता है।

बिहार में 18 हजार के आंकड़े पर पहुंचा कोरोना संक्रमितों की संख्या

गौरतलब है कि बिहार में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 17 हजार 959 पहुंच गई है, जिसमें 5,482 एक्टिव केस हैं। वहीं इस संक्रमण से राज्य में 160 लोगों की मौतें भी हो चुकी हैं। हालांकि, इस बीच राहत की खबर यह है कि राज्य में कोरोना के 12, 317 मरीज ठीक भी हो चुके हैं।

यह भी पढ़ें -   आंध्र प्रदेश के बाद बंगाल में भी सीबीआई के लिए रास्ता बंद

ज्ञात हो कि पूरे बिहार समेत पूरे देश में 24 मार्च की रात से 31 मई तक पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया था। इसके बाद जून में अनलॉक-1 और फिर जुलाई में अनलॉक-2 लागू हुआ है। माना जा रहा है कि राज्य सरकार लॉकडाउन के दौरान कुछ सहूलियत दे सकती है। मसलन रेलवे, बस सेवा, विमान सेवा पर प्रतिबंध नहीं लगाएगी लेकिन यात्रा के दौरान कोरोना संक्रमण ना फैले इसे लेकर कुछ नए गाइडलाइन जारी कर सकती है।