भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 3.091 अरब डॉलर बढ़कर 476.092 पर पहुंचा

विदेशी मुद्रा भंडार

नई दिल्ली। भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 14 फरवरी की समाप्ति सप्ताह में 3.091 अरब डॉलर बढ़कर 476.092 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। इस तेजी का कारण विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों का बढ़ना है। रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है।

पिछले सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 1.701 अरब डॉलर बढ़कर 473 अरब डॉलर हो गया था। समीक्षाधीन सप्ताह में मुद्रा भंडार का महत्वपूर्ण हिस्सा यानी विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां 2.763 अरब डॉलर बढ़कर 441.949 अरब डॉलर हो गयीं। इस दौरान स्वर्ण भंडार 34.4 करोड़ डॉलर बढ़कर 29.123 अरब डॉलर हो गया।

आलोच्य सप्ताह के दौरान अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष में विशेष आहरण अधिकार 60 लाख डॉलर घटकर 1.430 अरब डॉलर रह गया, जबकि आईएमएफ में देश की आरक्षित निधि भी 90 लाख डॉलर घटकर 3.590 अरब डॉलर रह गई।

यह भी पढ़ें -   भारत में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 8300 के पार, 273 की मौत

अमेरिका ने भारत के व्यापारिक बाधाओं को लेकर जताई चिंता

वहीं दूसरी तरफ व्यापार को लेकर अमेरिका ने कहा कि वह भारत के नये व्यापारिक बाधाओं को लेकर चिंतित है। यह एक ऐसा मुद्दा है, जिसका समाधान दोनों देशों के बीच व्यापक व्यापारिक समझौता होने से पहले करने की जरूरत है।

अमेरिका के एक वरिष्ठ अधिकारी शुक्रवार को अगले सप्ताह होने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के भारत दौरे को सफल होने की उम्मीद जताते हुए कहा,  पिछले कई हफ्तों में भारत की ओर से कई घोषणाएं हुई हैं जो चर्चा को थोड़ा और कठिन बना रही हैं।

यह भी पढ़ें -   रिजर्व बैंक ने रेपो दर में नहीं किया कोई बदलाव, 5.15 प्रतिशत पर यथावत रखा

उन्होंने कहा कि हम इन्हें बाधाओं में वृद्धि के रूप में देखते हैं। निश्चित रूप से दोनों देशों के नेताओं के बीच चर्चा में यह मुद्दा सामने आयेगा। उल्लेखनीय है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प 24 फरवरी को दो दिवसीय यात्रा पर भारत आ रहे हैं।