Google 20th Birthday: इंटरनेट के इस बड़े खिलाड़ी के बारे में कितना जानते हैं आप?

Google दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है। आज इंटरनेट के बिना मानव एक मिनट भी जीने की नहीं सोच सकता।  आज गूगल की 20th Birth Anniversary है। गूगल 21वीं सदी का सबसे चर्चिच सर्च इंजन है। आज ही के दिन सितंबर 1998 में गूगल का जन्म हुआ था।

दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल की शुरुआत 1996 में एक रिसर्च परियोजना के दौरान लैरी पेज़ और सर्गेई ब्रिन ने की थी Google.com डोमेन का रजिस्ट्रेशन 15 सितंबर 1995 को किया गया था और एक कंपनी के तौर पर 4 सितंबर 1998 को रजिस्टर की गई थी।

तो ये है निरहुआ की असली पत्नी, जानें कौन । Who is real wife of Nirahua

शुरुआत में गूगल कंपनी को एक गैराज में चलाया जाता था। यह गैराज था यूट्यूब की सीईओ सूजन की। सूजन ही गूगल की पहली कर्मचारी हैं और लैरी पेज़ और ब्रिन की दोस्त भी। सूजन फरवरी 2014 से यूट्यूब की सीईओ हैं।

अपनी 20वीं वर्षगांठ के मौके पर भी गूगल ने यह मौका नहीं छोड़ा और एक शानदार गूगल बनाया है। इस डूडल में गूगल ने बीते 20 साल के दौरान बनाए गए बेहतरीन और यादगार डूडल का एक संग्रह तैयार किया है। इन डूडल्स को देख आप यकीनन गूगल की पुरानी लेकिन दिलचस्प यादों में खो जाएंगे।

एक विरासत: आधुनिक भारत के प्रथम राष्ट्रपति भारतरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद

गूगल के पास हर सवाल का जवाब होता है। हमें जो चाहिए उसे हम गूगल पर ढूंढ सकते हैं। गूगल को आज से 20 साल पहले स्टानफोर्ड यूनिवर्सिटी के दो पीएचडी स्टूडेंट्स ने शुरू किया था। गूगल के लोकप्रिय होने की वजह है इसके पेज का हल्का होना। आज भी गूगल का पेज कम इंटरनेट स्पीड पर भी आसानी से खुल जाती है। यही वजह है कि गूगल लोगों के बीच ज्यादा लोकप्रिय हुआ।

आज गूगल कुल 150 भाषाओं में उपलब्ध है और 190 देशों में गूगल सर्च इंजन का इस्तेमाल किया जाता है। गूगल की शुरुआत जब हुई थी उस समय वर्ल्ड वाइड वेब (www) पर 25 मिलियन पेज था। गूगल से पहले सर्च इंजन के तौर पर याहू को लोग ज्यादा प्रयोग करते थे।

आखिर किसान क्यों हैं परेशान?

कैसे काम करता है गूगल-

गूगल एक सर्च इंजन है जो इंटरनेट पर मौजूद जानकारी को लोगों की मांग पर उपलब्ध कराता है। इंटरनेट पर मौजूद किसी भी चीज को देखने के लिए एक खास यूआरएल(URL- Universe Resource Locator) की जरूरत होती है। यदि आपके पास यूआरएल नहीं है तो आप उस पेज पर मौजूद जानकारी को नहीं देख सकते। इन्हीं जानकारियों को आपकी मांग पर आप तक गूगल पहुंचाता है, भले ही आपके पास उस पेज का URL न हो।

जानिए आजाद भारत के दूसरे राष्ट्रपति और भारत रत्न सर्वपल्ली राधाकृषणन के बारे में

गूगल के सफर की पांच बातें-

1. 20 साल पहले गूगल को स्टानफोर्ड यूनिवर्सिटी के दो पीएचडी स्टूडेंट्स लैरी पेज और सर्गे ब्रिन ने शुरू किया था। पहले इसका एड्रेस Google.stanford.edu रखा गया। जिसका नाम था BackRub और बाद में GOOGLE रखा गया।

2. 15 सितंबर 1995 को Google.com डोमेन का रजिस्ट्रेशन किया गया था, लेकिन गूगल कंपनी के तौर पर 4 सितंबर 1998 को रजिस्टर की गई थी।

3. 1998 में जब गूगल की शुरुआत की गई थी, तब पूरे वर्ल्ड वाइड वेब (www) पर करीब 25 मिलियन (2.5 करोड़) पेज मौजूद थे। उस समय सभी मौजूद पेजों की जानकारी गूगल पर मिल जाती थी।

4. गूगल को बनाने का मुख्य मकसद था दुनिया भर की जानकारी लोगों तक पहुंचाना।

5. गूगल आज दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है। आज गूगल ऑपरेटिंग सिस्टम से लेकर मोबाइल डिवाइस तक बनाती है।

आधार पर ‘सुप्रीम’ फैसला जान लीजिये, कहां जरूरी और कहां जरूरी नहीं

गूगल के कितने प्रोडक्ट बाजार में मौजूद है-

  1. गूगल सर्च इंजन
  2. यूट्यूब
  3. गूगल एड्स
  4. ब्लॉगर.कॉम
  5. गूगल मैप
  6. गूगल ट्रेंड्स
  7. गूगल सर्च कंसोल
  8. गूगल वेबमास्टर

ये मुख्यता ज्यादा popular प्रोडक्ट हैं गूगल के। इसका प्रयोग ज्यादा किया जाता है। इसके अलावा भी गूगल के कई प्रोडक्ट हैं जो मौजूद हैं, हालांकि वो ज्यादा प्रयोग में नहीं है। हाल ही में गूगल ने गूगल-पे भी लॉन्च किया है जो काफी तेजी से लोगों के बीच लोकप्रिय हो रहा है।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें