देर तक सोने के नुकसान – डिप्रेशन, हृदय संबंधी रोग जैसी बीमारियाँ हो सकती है

देर तक सोना

सोना सेहत के लिए अच्छा होता है। लेकिन देर तक सोने से कई प्रकार के नुकसान होते हैं। एक भरपूर नींद आपकी दिनचर्या को खुशनुमा बनाता है तो वहीं देर तक सोना आपनी दिनचर्या को बोरिंग भी बना सकती है। इतना ही नहीं देर तक सोने के और भी कई नुकसान हैं। जैसे कि डिप्रेशन, हृदय संबंधी रोग इत्यादि बीमारियों को निमंत्रण देना।

सुबह के समय बहुत देर तक सोने से शरीर में कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं उत्तपन्न हो सकती हैं। यदि आप नियमित रूप से 7 से 8 घंटे की नींद लेते हैं तो यह स्वास्थ्य के लिए नुकसान करने की जगह फायदेमंद होता है। टाइम से सोना आपको डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशन जैसी बीमारियों से बचाता है।

देर तक सोने के नुकसान क्या-क्या हो सकते हैं-

सिर दर्द की समस्या – देर तक सोने से दिमाग पर विपरित प्रभाव पड़ता है। ज्यादा अधिक नींद लेने से रात में कई बार आपका रूटीन बदल जाता है। रात में फिर सही से नींद नहीं आती है। ऐसी स्थिति में सिरदर्द की समस्या आम हो जाती है। आगे चलकर यह माइग्रेन की समस्या भी बन सकती है। इसलिए देर तक नहीं सोना चाहिए या फिर दिन में झपकी लेना बंद कर दें।

यह भी पढ़ें -   Hindi Horoscope - जानिए कैसा रहेगा 26 फरवरी का दिन

हाई अटैक का खतरा – ज्यादा देर तक सोने से दिल की सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। अमेरिकन जर्नल ऑफ कार्डियोलॉजी की रिपोर्ट के मुताबिक, देर तक सोने से लेफ्ट वेंटिकुलर का वजन बढ़ने लगता है। ऐसे में हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ जाता है। देर तक सोने से स्ट्रोक का जोखिम 46 फीसदी तक बढ़ जाता है।

डिप्रेशन और तनाव में बढ़ोतरी – लंबे वक्त तक सोने से आपको डिप्रेशन की समस्या हो सकती है। इसके अलावा हमेशा तनाव भी बना रहता है। देर तक नींद लेने से शरीर की गतिविधियाँ कम हो जाती है। इससे शरीर में अलग-अलग अंग में परेशानियाँ बढ़ने लगती है। इसलिए कोशिश करें कि समय से सोकर सुबह भी समय से जगें।

यह भी पढ़ें -   गुड़ खाने के फायदे : आयरन की कमी, गैस की समस्या को करे ठीक

शरीर में आलस बढ़ना – आलस भी एक तरह की बीमारी है। आलस होने पर हमें काम करने में मन नहीं लगता है। शरीर में हमेशा थकावट रहता है। देर तक सोने से शरीर की बायोलॉजिकल क्लॉक असंतुलित हो जाता है। शरीर में सुस्ती, मूड खराब होना, सिरदर्द, पीठदर्द, गले में ऐंठन, हमेशा आलस बना रहना और हर वक्त थकावट महसूस होना इत्यादि देर तक सोने के लक्षण हैं।

मोटापा का खतरा होता है ज्यादा – लंबे वक्त तक सोने से शरीर की निषक्रियता बढ़ने लगती है। इससे शरीर में ऊर्जा की खपत कम होती है। ऐसी स्थिति में वजन बढ़ने लगता है। वजन बढ़ने से हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी बीमारियाँ हो जाती हैं। इसलिए आठ घंटे से ज्यादा की नींद न लें।