रतौंधी की समस्या (Night Blindless Problem) क्या है और कैसे इसका इलाज करें?

रतौंधी की समस्या और घरेलू इलाज

अगर किसी व्यक्ति को रतौंधी की समस्या (Night blindness Problem) है तो उसे रात में दिखाई कम देता है। यह समस्या किसी को जन्म से ही हो सकती है या फिर आँख में गंभीर चोट लगने से या फिर कुपोषण की वजह से भी हो सकती है।

रतौंधी होने का कारण – Cause of Night blindness Problem

जब शरीर में विटामिन ए (Vitamin A Deficiency) की कमी हो जाती है तब यह रोग उत्पन्न होता है। रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा रतौंधी होने का सबसे आम कारण है। इस तरह का विकार होने पर रेटिना में मौजूद रेड कोशिकाएं धीरे-धीरे कम हो जाती हैं, जिससे प्रकाश के विपरित प्रतिक्रिया देने की क्षमता कम हो जाती है या खत्म हो जाती है। तब इसे रतौंधी कहते हैं।

रतौंधी की समस्या होने पर सबसे पहले आँख का कॉर्निया खराब हो जाता है। ऐसी समस्या होने पर आँखों में सफेद धब्बा दिखने लगता है। इस तरह की समस्या होने पर विटामिन ए की कैप्शूल या विटामिन ए की कमी को पूरा करने वाले फलों और सब्जियों के सेवन करना चाहिए। इससे रतौंधी की समस्या ठीक हो जाती है।

यह भी पढ़ें -   Hindi Horoscope - जानिए कैसा रहेगा 26 फरवरी का दिन
रतौंधी की समस्या होने पर क्या लक्षण दिखते हैं – Symptoms of night blindness

1. सिरदर्द की समस्या होना
2. रात को दिखाई नहीं देना
3. आँख में दर्द होना
4. आँख की दृष्टि धुंधला होना
5. प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता में कमी होना
6. दूर की वस्तुओं को देखने में दिक्कत होना
7. आँखों से बार-बार आंसू आना
8. आँखों में सूजन होना इत्यादि इसके प्रमुख लक्षण हैं।

रतौंधी का घरेलू उपचार – Treatment of night blindness

1. रतौंधी की समस्या होने पर आँखों पर शुद्ध शहद की थोड़ी सी मात्रा लेकर सुबह-शाम लगाएँ।

2. रात को सोने से पहले सौंफ और खांड की 25-25 ग्राम मात्रा का सेवन रोज करें।

यह भी पढ़ें -   जूते पहनना है तो वेन्ड्यू के जूते ही पहने

3. थोड़ी सी कालीमिर्च का चूर्ण लेकर उसमें देशी घी मिलाकर आँखों में काजल की तरह लगाएं। इससे फायदा होगा।

4. दो हरड़ लेकर रात में इसे साफ पानी में भिंगो ले। सुबह के समय इसी पानी से आँखों को धोएं। इससे रतौंधी की समस्या ठीक होती है।

5. अनार का रस रोजाना आँखों में डालने से रतौंधी की समस्या ठीक होती है। पानी में सिरका और शहद मिलाकर रोज पीने से भी रतौंधी की समस्या खत्म होती है।

6. बथुए की रस को निकालकर कुछ बूंद आँखों में डालने से राहत मिलती है। एक कप बथुए के रस में सेंधा नमक मिलाकर पीने से भी रतौंधी ठीक होती है।

7. ताम्बे के बर्तन में पानी को रातभर रहने दे। सुबह उठकर उसी पानी को पीएं। इससे फायदा होता है।

यह भी पढ़ें -   दही खाने के फायदे और नुकसान, दही का सेवन कब नहीं करना चाहिए?

8. आंवला का पानी भी इसमें फायदाकारक होता है। आंवले के पानी से आँखों को धोयें। इससे लाभ मिलेगा। आँखों में थोड़ा सा गुलाब जल भी डालने से आँखें स्वस्थ होती हैं।

9. सौ ग्राम गुलाबजल में एक चने जितने फिटकरी को सेंककर डालें। रोजाना रात में सोने से पहले गुलाबजल की चार-पाँच बूँद आँखों में डालें। ऐसा करने से रतौंधी में लाभ मिलता है।

10. 7 बादाम, 5 ग्राम मिश्री और 5 ग्राम सौंफ को मिलाकर उसका चूर्ण बना लें। रात में सोने से पहले दूध के साथ सेवन करें। इससे रतौंधी की समस्या में लाभ मिलता है और आँखों की रोशनी भी बढ़ती है।


डिस्क्लेमर – यह एक सामान्य जानकारी है। इन सुझावों और जानकारी को किसी मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर ना लें। किसी भी बीमारी के इलाज से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।