मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कोरोना वायरस को लेकर सतर्क, सरकार ने लिया बड़ा फैसला

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पटना। देश और दुनिया में कोरोना वायरस ने अपना पांव पसार लिया है। जिसको लेकर केंद्र सरकार सहित सभी राज्य के मुख्यमंत्री हाई अलर्ट पर हैं। कोरोना वायरस को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हाई लेवल मीटिंग का आयोजन किया गया। इस मीटिंग में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय सहित कई उच्चाधिकारी शामिल रहे।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में कोरोना से बचाव के लिए किए जा रहे उपायों की जानकारी ली। इसके साथ ही इसे लेकर क्या कदम उठाए जाने चाहिए, इसकी भी चर्चा की गई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह मीटिंग अपने आवास पर की। मीटिंग के बाद बिहार सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने घोषणा करते हुए कहा कि बिहार सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर एहतियातन बड़ा फैसला लिया है।

उन्होंने कहा कि राज्य के सभी स्कूल-कॉलेज, कोचिंग संस्थान व सभी सिनेमा हॉल, जू-पार्क सभी 31 मार्च तक बंद रहेंगे। लेकिन स्टूडेंट्स की सीबीएसई की परीक्षाएं जारी रहेंगी। हर साल राज्य में 22 मार्च को बिहार दिवस के रूप में मनाया जाता है लेकिन कोरोना के प्रकोप को देखते हुए मुख्य सचिव दीपक कुमार ने कहा कि जिले में बिहार दिवस के रूप में जो कार्यक्रम आयोजित किए गये थे, सभी को रद्द कर दिया गया है। अब बिहार दिवस इस साल नहीं मनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें -   कोरोना से संक्रमित मृतकों के परिवार के लिए केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान

मुख्य सचिव ने कहा कि बिहार दिवस के आयोजन को लेकर नई तारीख का ऐलान बाद में किया जाएगा। इसी बीच किसी भी सामूहिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार के सभी आंगनबाड़ी केंद्र बंद रहेंगे। स्कूल बंद रहने के दौरान मिड-डे मील की राशि बच्चों के परिजनों के खाते में डाल दिया जाएगा।

बता दें कि बिहार में अब तक 60 से अधिक संदिग्धों की जांच हुई है, लेकिन किसी भी संदिग्ध में कोरोना वायरस के पॉजिटिव लक्षण नहीं मिले हैं।