हरी मिर्च के 5 बेहतरीन फायदे – Green Chilli कितना खाना चाहिए?

हरी मिर्च खाने के फायदे

हरी मिर्च (Green Chilli) खाने के फायदे और नुकसान – हम अपने भोजन में लाल मिर्च का सेवन करने के साथ-साथ हरी मिर्च का भी सेवन करते हैं। हरी मिर्च के सेवन से कई फायदे भी होते है और नुकसान भी। कई लोगों के मन में सवाल होता है कि हरी मिर्च कितना खाना चाहिए। इसके क्या फायदे और नुकसान होते हैं? आइए जानते हैं हरी मिर्च कितना खाना चाहिए और क्या हैं इसके फायदे और नुकसान?

हरी मिर्च कितना खाना चाहिए?

हम घरों में हरी मिर्च को कई तरीके से खाते हैं। हमारे घरों में आचार से लेकर हरी मिर्च के कई तरह के व्यंजन भी बनाए जाते हैं। हरी मिर्चा का सेवन प्रतिदिन करने से स्वास्थ्य लाभ होता है। एक व्यक्ति को एक दिन में 12 से 15 ग्राम हरी मिर्च का सेवन करना चाहिए। हरी मिर्च का ज्यादा सेवन करने से पेट की समस्या, अपच और पेट में जलन की समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें -   आठ घंटे से ज्यादा नींद लेते हैं तो हो जाइए सावधान, बेहद खतरनाक है ये
हरी मिर्च खाने के फायदे – Green Chilli Health Benefits

मेटोबॉलिज्म बढ़ाने में सहायक – हेल्थ शॉट वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, हरी मिर्च खाने से शरीर की मेटाबॉलिज्म की प्रक्रिया बूस्ट होती है। इससे शरीर का वजन कम करने में सहायता मिलती है। हरी में मिर्च में कैप्साइसिन नाम का एंटीऑक्सीडेंट होता है जो हमारे शरीर में गर्मी को बढ़ाने का काम करता है।

वजन घटान में सहायक – यदि आप बढ़ते हुए वजन से परेशान हैं तो हरी मिर्च आपके पेट के फैट को बर्न करने में मदद कर सकता है। शरीर में मेटाबॉलिज्म बढ़ने से रक्त का संचार बढ़ जाता है। यह शरीर में तालू को प्रभावित करता है और वजन को कम करने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें -   गुड़ खाने के फायदे : आयरन की कमी, गैस की समस्या को करे ठीक

इम्यूनिटी बढ़ाने में सहायक – हरी मिर्च में विटामिन सी पाया जाता है। विटामिन सी शरीर की रक्षा प्रणाली को मजबूती देने में सहायक होता है। हरी मिर्च के सेवन से शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद मिलती है।

मधुमेह को रोकने में सहायक – हरी मिर्च शरीर में शर्करा की मात्रा को कंट्रोल करता है। इससे शरीर में मधुमेह की बीमारी को रोकने में मदद मिलती है।

गठिया रोग कम करने में सहायक – हरी मिर्च में सूजन को कम करने का गुण पाया जाता है। ऐसे में यह गठिया के दर्द को कम करने में मददगार होता है।

यह भी पढ़ें -   कान में दर्द होना - जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज