हिमाचल के मंडी में बादल फटने से अबतक 46 की मौत

46-people-dead-himanchal-pradesh

शिमला। हिमाचल प्रदेश में बादल पटने के बाद हुए भूस्खलन की चपेट में आने से अबतक 46 लोगों की मौत हो चुकी है। ये हादसा शनिवार की देर रात हुआ था। जिस वक्त ये हादसा हुआ, खबर है कि उस वक्त दोनों बसें रुकी हुई थी। एक बस मनाली से कटरा जा रही थी। दूसरी बल चंबा से मनाली जा रही थी।

बताया जा रहा है कि रविवार देर शाम के बाद राहत और बचाव कार्य रोक दिया गया है। इसे सोमवार सुबह फिर से शुरू किया जाएगा। बताया जा रहा है कि जिस दौरान ये हादसा हुई, दोनों बसें यात्रियों से भरी हुई थी। अचानक बादल पटने के बाद हुए भूस्खलन से एक बड़ा पत्थर का टुकड़ा बस से टकरा गई। जिससे बस खिसककर 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरी। जबकि दूसरी बस पानी के तेज बहाव के साथ बह गई।

Read Also: खुशखबरी! अब पासपोर्ट बनाने ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा

यह भी पढ़ें -   जानिए… क्या है खासियत दिल्ली के कनॉट प्लेस में

घटना के बादे से प्रशासन और सेना रविवार को पूरे दिन बचाव कार्य में जुटे रहे। अभी उक्त स्थान पर अन्य लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है। घटना के बाद हिमाचल के मुख्यमंत्री घटनास्थल का जायजा लिया। जायजा करने के बाद उन्होंने कहा कि सभी शवों के निकलने तक बचाव कार्य जारी रहेगा।

आशंका जताई जा रही है कि घटनास्थल पर और भूस्खलन हो सकता है। जिस वजह से बचाव कार्य रोक दिया गया है। रक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने कहा कि घटनास्थल पर सेना की दो टुकड़ि़यों को बचाव कार्य में लगाया गया है। एनडीआरफ, सेना और पुलिस के दल मौके पर पहुंच गए हैं और वहां जेसीबी मशीन भी तैनात की गईं हैं।

यह भी पढ़ें -   नीतीश कुमार ने शराबबंदी पर दिया बड़ा बयान, कहा-मेरे खिलाफ भ्रम फैलाई जा रही है

Read Also: गुजरात में 12 शेरों के बीच महिला ने दिया बच्चे को जन्म

इस दुखद घटना के बाद हिमाचल के स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने मारे गए लोगों के परिवार को 4-4 लाख मुआवजा देने की घोषणा की है। वहां हिमाचल परिवहन निगम ने इन परिवारों को एक-एक लाख रुपया देने की घोषणा की है।

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

यह भी पढ़ें -   35A पर महबूबा ने दिखाए सख्त तेवर, कहा-छेड़छाड़ बारूद को हाथ लगाने के बराबर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *