लॉकडाउन के बाद ट्रेन के सफर में यात्रियों के लिए यह नियम होंगे लागू

भारतीय रेलवे

नई दिल्ली। देश में मौजूदा कोरोना लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल को खत्म हो रही है। केंद्र सरकार 15 अप्रैल से रेल सेवा को शुरू करने पर विचार कर रही है। भारतीय रेलवे ने 15 अप्रैल से ट्रेनों के परिचालन को लेकर और यात्रियों की सुविधा को लेकर कुछ खास नियम बनाए हैं। रेलवे उन नियमों का गंभीरता और सख्ती के साथ पालन करेगी। ट्रेन में यात्रा के दौरान यात्रियों को रेलवे की तरफ से जारी इन नियमों का सख्ती से पालन करना होगा।

इसके साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि यदि कोई यात्री ट्रेन में यात्रा के दौरान कोरोना लक्षण से पीड़ित पाए जाते हैं तो उस यात्री को रेलवे जबरन बीच रासते में उतार देगी। यात्री का पूरा किराया वापस किया जाएगा। इसके अलावा रेलगाड़ी के परिचालन को सुरक्षित बनाने के लिए रेलवे नॉनस्टॉप रेलगाड़ियां चलाएगी। यदि बीच में कोई जरूरत होगी तो ट्रेन को एक दो स्टेशनों पर रोका जा सकता है।

प्रोटोकॉल तैयार, सोशल डिस्टेंसिंग का होगा सख्ती से पालन

रेलवे ने यात्रियों के लिए प्रोटोकॉल तैयार कर लिया है। इसे हूबहू या फिर कुछ परिवर्तनों के साथ लागू किया जाएगा। रेलवे प्रोटोकॉल के मुताबिक, यात्रियों के स्टेशन परिसर में प्रवेश करते ही यात्रियों को मामूली शुल्क लेकर मास्क और दस्ताने देगी। मास्क और दस्ताने स्टेशन परिसर और ट्रेन के अंदर भी पहनना अनिवार्य होगा।

यह भी पढ़ें -   कोरोना वायरस को लेकर उप्र में 10 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गई: स्वास्थ्य मंत्री

वर्थ एलॉटमेंट में भी रेलवे ने बड़ा बदलाव किया है। एक केबिन में सिर्फ दो यात्रियों को ही यात्रा की अनुमति मिलेगी। प्रत्येक केबिन का साइड लोअर और अपर बर्थ खाली रखा जाएगा ताकि यात्रियों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का सही से पालन हो सके। इसके अलावा रेलवे तत्काल प्रभाव से बाहरी वेंडर्स को ट्रेन के अंदर जाने पर रोक लगा दी है। साथ ही रनिंग स्टॉप को भी कमोबेश मास्क और दस्ताने पहनने होंगे।

यह भी पढ़ें -   SBI ने बदल दिया कैश जमा करने का नियम, जानें नए नियम

वेटिंग टिकट होगा रद्द

रेलवे के अधिकारी की तरफ से कहा गया है कि कई ट्रेनों में जो भी वेटिंग है उसे रद्द किया जाएगा। रेलवे उत्तर भारत में 307 ट्रेन चलाएगी। अधिकारी के मुताबिक, कोरोना पर गठित मंत्री समूह के निर्देशों का सख्ती से पालन कराया जाएगा।

यात्रियों के लिए यह नियम होंगे लागू
  • स्टेशन परिसर में यात्रियों को ट्रेन के छूटने से 4 घंटे पहले आना होगा।
  • स्टेशन परिसर में यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग होगी।
  • स्टेशन में केवल उन्हीं यात्रियों को प्रवेश मिलेगा जिनका कंफर्म टिकट होगा।
  • इस दौरान स्टेशन परिसर में प्लेटफॉर्म टिकट की बिक्री पर रोक रहेगा।
  • किसी भी ट्रेन में एसी कोच नहीं होंगे। पूरी ट्रेन नॉन एसी होगा।
  • ट्रेन में सिर्फ स्लीपर डिब्बे होंगे। जनरल बोगी ट्रेन में नही होगी।
  • यात्रियों को 12 घंटे पहले रेलवे को अपने स्वास्थ्य की जानकारी देनी होगी।
यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में कोरोना के 20 नए केस, राज्य में कुल कोरोना संक्रमित 173