पीएम मोदी का इजरायल दौरा, जानें क्यों है अहम

नई दिल्ली। किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री का ये पहला इजरायल दौरा है। अभी तक किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल का दौरा नहीं किया है। हालांकि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, गृहमंत्री इत्यादि का इजरायल दौरा पहले हो चुका है। लेकिन किसी प्रधानमंत्री का ये पहला इजरायल दौरा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को जर्मनी और इजरायल के तीन दिन के दौरे पर रवाना हो गए।

Read Also: डोकलम विवाद: सिक्किम सीमा पर भारत ने बढ़ायी सैनिकों की तैनाती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ये इजरायल यात्रा कई मायनों में महत्वपूर्ण है। इस यात्रा में कई महत्वपूर्ण मुद्दे जैसे सैन्य, कृषि, जल और अंतरिक्ष तकनीक आदि विषयों पर बातचीत हो सकती है। पीएम मोदी की ये यात्रा इन कारणों से महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

1 वैश्विक राजनीति में असर –

बता दें कि जब पीएम मोदी अमेरिका के दौरे पर थे तब इजराइली अखबार द मार्कर ने उन्हें दुनिया का सबसे अहम प्रधानमंत्री बताया था। जाहिर है कि इजरायल पीएम मोदी को वैश्विक नेता के रूप में स्वीकार करता है। साथ ही भारत फिलिस्तीन से टकराव के मामले में इजरायल के लिए मददगार साबित हो सकता है।

यह भी पढ़ें -   मंत्रियों का काम अर्थव्यवस्था सुधारना है न कि सर्कस करना-प्रियंका गांधी

Read Also: ये है अमेरिका का एरिया 51, दफन हैं कई अनसुलझे राज !

2 किसी भारतीय पीएम का पहला दौरा-

पीएम मोदी की ये यात्रा किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा है। गौरतलब है कि 1948 में जब इजरायल देश का उदय हुआ था, उसके दो साल बाद भारत ने इजरायल को एक देश की मान्यता दी थी। लेकिन उसके बाद से आजतक किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल का दौरा नहीं किया था।

3 रक्षा क्षेत्र में सहयोग-

गौरतलब है कि इजरायल रक्षा के क्षेत्र में दुनिया में सबसे अग्रणी देशों में से एक है। भारत अमेरिका और रूस के बाद इजरायल से ही सबसे ज्यादा हथियार खरीदता है। भारत ने 2012 से 2016 के बीच 40 प्रतिशत से ज्यादा हथियार इजरायल से खरीदे हैं। भारत का चीन और पाकिस्तान से युद्ध में इजरायल ने मदद की थी।

यह भी पढ़ें -   खुशखबरी! अब पासपोर्ट बनाने ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा

Read Also: देवशयनी एकादशी से चार महीने तक कोई भी शुभ कार्य नहीं होंगे

4  जल प्रबंधन समझोता- 

जल प्रबंधन भारत के लिए एक बड़ी समस्या है। इजराइल के पास जलप्रबंधन की काफी विकसित तकनीक है इसलिए इस क्षेत्र में वो भारत के लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। भारत ने इजरायल के साथ बीते 28 जून 2017 को “नेशनल कैंपेन फॉर वाटर कंजरवेशन इन इंडिया” के एमओयू पर साइन किया है।

5 कृषि क्षेत्र में –

भारत आज भी एक कृषि प्रधान देश है। कृषि तकनीक के मामले में इजरायल काफी आगे है। भारत अगर कृषि तकनीक के क्षेत्र में इजरायल के साथ समझौता करता है तो यह भारत के लिए काफी फायदेमंद होगा।

यह भी पढ़ें -   लालू ने नीतीश को कहा पलटूराम, बोले-वोट के लिए गिड़गिड़ाने आए थे

Read Also: फेसबुक से इतने नाराज हुए अमिताभ बच्चन कि लिख दिया ट्विटर पर ये

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

यहां प्रदर्शित चित्रों को अलग-अलग जगहों से लिया जाता है। इसपर हम दावा नहीं करते। इनपर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *