लोकबंधु अस्पताल बना कोरोना लेवल-टू हॉस्पिटल, सिर्फ कोरोना मरीज होंगे भर्ती

लोकबंधु अस्पताल

लखनऊ। राजधानी लखनऊ स्थित लोकबंधु अस्पताल को “कोरोना लेवल-टू हॉस्पिटल” बनाया गया है। लोकबंधु हॉस्पिटल में अब सिर्फ कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती किए जाएंगे। यहां के दूसरे मरीजों को सिविल अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है और इमरजेंसी भी बंद कर दी गई है।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now
* कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व रहेगा लोकबंधु 
* अस्पताल में 102 बेड मौजूद , संख्या और बढ़ेगी 
* एल-2 लेवल का अस्पताल तैयार 

* जांच व आइसोलेशन की सुविधा उपलब्ध 

यूपी सरकार के निर्देशानुसार सभी तैयारियां की जा रही हैं। डॉक्टरों की टीम बना ली गई है। पॉजिटिव मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाले संसाधन भी मंगवाए गए हैं। लोकबंधु और सिविल को मिलाकर 15 दिन तक डॉक्टरों की ड्यूटी तय कर दी गई है। लोकबंधु अस्पताल में अब सिर्फ कोरोना के मरीज ही भर्ती होंगे। यहां वेंटिलेटर समेत दूसरी अन्य सुविधाएं भी मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें -   देश में लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ने के साथ ही रेलवे ने लिया बड़ा फैसला

अस्पताल के निदेशक डॉ. डीएस नेगी ने बताया कि एयरपोर्ट पर कोरोना पॉजिटिव पाए गए  रुदौली निवासी पहले मरीज को बीते 3 मार्च को यहीं लाया गया था। इसके बाद यहां 18 लोगों को क्वारंटाइन भी किया गया है। इन सभी 18 क्वारंटाइन लोगों व अन्य रोगों से ग्रस्त 7 मरीजों को सिविल में शिफ्ट किया जा रहा है। अभी यहां 15 डॉक्टर हैं लेकिन 22 अन्य डॉक्टर की मांग की गई है।

लोकबंधु में अभी 100 क्वारंटाइन और 12 आइसोलेशन बेड हैं। यहां 5 वेंटीलेटर भी हैं। अब ये सभी कोरोना मरीजों के आइसोलेशन बेड बनाए गए हैं। इस अस्पताल की सुविधाओं को बढ़ाया जा रहा है। सभी डॉक्टर्स व पैरा मेडिकल स्टाफ के लिए पीपीई किट, ग्लव्स, मास्क, मरीजों के लिए मास्क, सैनीटाइजर आदि की व्यवस्था की जा रही है।

यह भी पढ़ें -   Mangalwar ke Jtotish Upay : मंगलवार को क्या नहीं खरीदना चाहिए?

लखनऊ के मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि लखनऊ में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर एक बेहद सशक्त नेटवर्क तैयार किया गया है। जिसे अपग्रेड करके एक-दूसरे के साथ इंटीग्रेट कर कोरोना के मरीजों का इलाज किया जाएगा। केजीएमयू  में 440  क्वारंटाइन बेड और 200 आइसोलेशन बेड हैं। वहीं पीजीआई में 210 बेड, लोहिया में 320 बेड, कैंसर संस्थान में 50, बलरामपुर में 300, सिविल में 225, लोकबंधु में 112, बक्शी का तालाब 100 शैय्या अस्पताल पूरी तरह सक्षम हैं।

जहाँ तक प्राइवेट अस्पतालों से सहयोग की बात है तो 70 निजी अस्पतालों में 10-10 बेड के आइसोलेशन वार्ड तैयार हैं। इनमें करीब 200 वेंटिलेटर हैं। वहीं 23 निजी अस्पताल को अलर्ट कर दिया गया है। इसमें मेदांता, अपोलो, सहारा, निशांत हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, एसकेडी, शेखर, अवध इंस्टीट्यूट, सेवा हॉस्पिटल आदि शामिल हैं।

यह भी पढ़ें -   बिहार में कोरोना के मामले हुए विस्फोटक, आंकड़ा 277 तक, जानें पटना का हाल
Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।