आवाहन फाउंडेशन का सराहनीय प्रयास, चार्टर्ड विमान से 165 मजदूर पहुंचे घर

आवाहन फाउंडेशन

आवाहन फाउंडेशन के नितेश कुमार ब्रज किशोर प्रधान, आई कैन टीम के भुवनेश सोनी,  और बेंगलुरु स्थित एक लॉ स्कूल के पूर्व छात्रों के प्रयासों के बल पर 165 प्रवासी श्रमिकों को एक विशेष चार्टर्ड विमान द्वारा मुंबई से उनके घर झारखंड लाया गया।

180 व्यक्तियों की क्षमता वाला यह एयर एशिया का विमान A320, 169 प्रवासी श्रमिक और पांच बच्चों को लेकर 6.25 बजे पश्चिमी महानगर से उड़ान भरा था और सुबह 8.25 बजे झारखंड की राजधानी रांची पहुंचा। एयरलाइन के प्रवक्ता ने कहा कि “वो लॉकडाउन के समय में इन प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों- परिवारों तक पहुंचाने की इस पहल का हिस्सा बनकर बहुत गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।”

बेंगलुरु के लॉ स्कूल के पूर्व छात्र के समूह के प्रति आभार व्यक्त करते हुए झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा, “यह देश में पहली बार है कि एक विमान ने लॉकडाउन के दौरान मज़दूर (प्रवासियों) को वापस लाया। हम भुवनेश जी (आई कैन टीम), अरकजा सिंह, नेशनल लॉ स्कूल, बेंगलुरु के पूर्व छात्रों के इस नेटवर्क के सदस्य के प्रयासों की सराहना करते हैं।”

यह भी पढ़ें -   लॉकडाउन 17 मई तक के लिए बढ़ा, जानें क्या -क्या खुला रहेगा और क्या रहेगा बंद

आवाहन फाउंडेशन

आई-कैन टीम, और आहवान फाउंडेशन लॉकडाउन के बाद से जरूरतमंदों की सहायता के लिए लगातार दिन और रात काम कर रहे हैं।फोन कॉल के माध्यम से बेघर और जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन और अन्य सहायता प्रदान कर रहे हैं। यह अपने प्रयासों से अब तक 23 राज्यों में लगभग 6.5 लाख लोगों की मदद कर चुके हैं।

इनके साथ इनकी टीम में सोशल एक्टिविस्ट शिप्रा त्रिपाठी (ICAN दिल्ली स्टेट कोर्डिनेटर) श्री मयंक भदुरिया, श्री प्रीतेश सोनी, श्री प्रमथ शुक्ला, श्री शशांक राज, श्री शुभम राजपूत, गीतांजलि निगम, शक्ति प्रताप, नितेश कुमार, ब्रज किशोर प्रधान, मानसी जेना राय, प्रिया शर्मा और नीति आयोग द्वारा समर्थित एक पहल भारत को-एक्शन नेटवर्क के साथ उत्तर प्रदेश के राज्य समन्वयक सामाजिक कार्यकर्ता भुवनेश सोनी जी के साथ कार्य कर रहे हैं। आहवाहन फाउंडेशन द्वारा अब तक 6.5  लाख लोगों की मदद की जा चुकी है।