CAA: देशभर में विरोध, यूपी में 879 की गिरफ्तारी, योगी सरकार की कार्रवाई शुरू

सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट

नई दिल्ली। देशभर में सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन हो रहा है। यूपी में अबतक सीएए (सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट) के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 879 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पूरे देश में सुरक्षा-व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। यूपी में सीएए (सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट) के विरोध-प्रदर्शन में अबतक 16 लोगों की मौत हो चुकी है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर और रामपुर में शनिवार को हिंसा और आगजनी के साथ-साथ प्रदर्शनकारियों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई। वहीं बिहार में राजद समर्थित बंद के दौरान बड़े पैमाने पर तोड़फोड़ और आगजनी हुई। बिहार में कई जगहों पर रेल मार्ग को भी बाधित किया गया।

सीएए के विरोध में यूपी के विभिन्न इलाकों में हुई हिंसा के दौरान 260 से अधिक पुलिसकर्मी के घायल होने की यूपी पुलिस ने पुष्टि की है। 260 घायल पुलिसकर्मियों में से 57 को गोलियां लगी है।

दिल्ली में सुरक्षा कड़ी

दिल्ली में सीएए (सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट) के विरोध को देखते हुए सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। पुरानी दिल्ली और सीमापुरी के हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में चाकचौबंद सुरक्षा-व्यवस्था की गई है। दरियागंज इलाके में हुई हिंसा के संबंध में गिरफ्तार 15 लोगों को दो दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं शनिवार सुबह भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को पुलिस ने दिल्ली के जामा मस्जिद से गिरफ्तार किया।

यह भी पढ़ें -   Corona in Bihar: बिहार में अचानक बढ़े कोरोना के मामले, 24 घंटे में 40 नए केस

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को गिरफ्तारी के बाद 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। शक्रवार को उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ हुए प्रदर्शन में हिस्सा लिया था। दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में दिल्ली पुलिस ने अर्धसैनिक बलों के साथ फ्लैग मार्च किया। वहीं शनिवार को दिल्ली के इंडिया गेट, जामिया मिलिया इस्लामिया, राजघाट, उत्तर प्रदेश भवन के पास प्रदर्शन हुआ।

सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट
सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन करते लोग
असम में स्थिति में सुधार

वहीं देश के पूर्वोत्तर राज्य असम में माहौल शांत रहा। शनिवार को पश्चिम बंगाल में भी स्थिति में शांति रही। मेघालय में प्रदर्शन के मद्देनजर इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया। असम में सीएए (सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट) के विरोध में रैलियां निकाली गई। वहीं बिहार के पटना, भागलपुर और मुजफ्फपुर में प्रदर्शन के दौरान टैक्सियों और तिपहिया वाहनों के शीशे तोड़े गए। चेन्नई में और दक्षिण भारत के कई हिस्सों में भी विरोध-प्रदर्शन हुए।

यह भी पढ़ें -   नेतृत्वहीनता पर कांग्रेस का असमंजस
चेन्नई में ट्रेन रोकने की कोशिश विफल

चेन्नई में रेलवे स्टेशन पर माकपा कार्यकर्ताओं ने ट्रेन रोकने की कोशिश की जिसे पुलिस ने विफल कर दिया। केरल में कांग्रेस ने सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया। तमिलनाडु और केरल में कई जगहों प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प भी हुई।

नागरिकता संशोधन कानून (सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट) को लेकर भाजपा की सहयोगी पार्टी शिरोमणी अकाली दल ने केंद्र सरकार से इसमें मुसलमानों को भी शामिल करने की अपील की है। पार्टी ने कहा कि धर्म के आधार पर किसी को बाहर नहीं रखा जाना चाहिए। वहीं मायावती ने कहा कि भाजपा संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी पर अपनी जिद को छोड़कर इसे वापस ले, क्योंकि अब राजग में भी विरोध के स्वर उठने लगे हैं।

यह भी पढ़ें -   पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर सरकार ने कंसा शिकंजा, 108 सदस्य गिरफ्तार
बीजेपी चलाएगी जागरूकता अभियान

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार द्वारा लाया गया नागरिकता संशोधन कानून के संसद से पास होने के बाद हो रहे विरोध को देखते हुए बीजेपी लोगों को जागरुक करने के लिए एक विशेष जागरूकता अभियान चलाएगी। बीजेपी अभियान के दौरान लोगों को कानून की बारीकियों के बारे में बताएगी। बीजेपी लोगों को जागरूक करेगी कि यह कानून वर्तमान नागरिकों के विरुद्ध नहीं है।

योगी सरकार ने नुकसान की भरपाई शुरू की

उत्तर प्रदेश में विरोध-प्रदर्शन के बाद हुए नुकसान की भरपाई के लिए योगी सरकार ने कार्रवाई शुरू कर दी। डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि प्रदेश में हुए नुकसान की भरपाई करना शुरु कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगर उपद्रवी नुकसान की भरपाई नहीं करते हैं तो उनकी संपत्ति को जब्त की जाएगी। वहीं यूपी पुलिस ने सुरक्षा का हवाला देते हुए टीएमसी के नेताओं को लखनऊ आने पर रोक लगा दी है।