बिहार के बेबस मजदूरों के लिए बिहार सरकार ने खोला खज़ाना, जारी किए 100 करोड़

बिहार के बेबस मजदूर

कोरोना के कारण पूरा देश लॉकडाउन है। इस दौरान देश के अलग-अलग इलाकों से आ रही तस्वीरों में बिहार के बेबस मज़दूरों की व्यथा झलक रही है। लॉकडाउन के दौरान  इन लोगों पर खाने के भी लाले पड़ गए हैं। कोई सुविधा न होने पर भी कई मज़दूर तो बड़े शहरों को छोड़कर अपने गावों की ओर पैदल ही बढ़ चले हैं।

बिहार सरकार ने दिल्ली में रह रहे प्रवासी मजदूरों की मदद के 100 करोड़ की राशि का प्रावधान किया है। इसके साथ ही बिहार सरकार ने हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं। लोग इन नंबरों के जरिए सरकार द्वारा जारी मदद को प्राप्त कर सकते हैं।

हेल्पलाइन नंबर: 011-23792009, 011-23014326, 011-23013884

यह भी पढ़ें -   चेतावनी: क्या भारत में कोरोना वायरस से 40 करोड़ से ज्यादा लोग हो जाएंगे पॉजिटिव?

दिल्ली और देश के अन्य राज्यों में फंसे मजदूर इन नंबरों पर कॉल करके मदद ले सकते हैं। इन नम्बरों के ज़रिए मुख्य तौर पर तीन तरह की सहायता दिए जाने की व्यवस्था है। अगर कोई भी व्यक्ति इस नम्बर पर कॉल करके मदद मांगता है तो उसे उसी स्थान पर रहने और खाने के इंतज़ाम के साथ साथ कोरोना से बचने के लिए ज़रूरी सामान मुहैया करवाने की कोशिश की जा रही है।

यह भी पढ़ें -   कोरोना वायरस- बीसीसीआई ने खिलाड़ियों के लिए जारी किए दिशा-निर्देश

बिहार सरकार की तरफ से जारी किए गए ये तीनों नम्बर 24 घंटे काम करेगी। वहीं बिहार भवन के स्थानिक आयुक्त विपिन कुमार इस पूरी व्यवस्था की देखरेख कर रहें हैं। इसके अलावा बिहार के वरिष्ठ मंत्री भी अलग अलग राज्य सरकारों से सम्पर्क कर इन प्रवासियों की मदद करने की कोशिश कर रहे हैं ताकि ये प्रवासी जहां पर हैं, वहां पूर्ण रूप से इनके भोजन पानी की सहायता की जाए।

यह भी पढ़ें -   लोगों की लापरवाही ने बढ़ाया कोरोना! फेल हो सकता है लॉकडाउन का मकसद

बता दें कि देश में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के बीच देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसी तस्वीरें भी सामने आई हैं जिसमें मजदूर पैदल ही अपने गृहप्रदेश की ओर कूच कर चुके हैं। इन लोगों के पास न तो खाने की व्यवस्था है और न ही पानी पीने की। कई मजदूरों की मदद के लिए दिल्ली सरकार ने भी व्यवस्था किया है।

You May Like This!😊