काठमांडू में बड़ा विमान हादसा, रनवे पर उतरते वक्त विमान में लगी आग, 50 की मौत

नई दिल्ली। काठमांडू में एक बड़ा विमान हादसा हो गया है। सोमवार को नेपाल के त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर एक विमान उतरने के बाद हादसे का शिकार हो गया। बताया जा रहा है कि विमान उतरने के बाद रनवे से फिसलकर दुर्घटना का शिकार हो गया। दुर्घटना में 50 लोगों की मौत की खबर है। बोम्बार्डियर डैश 8 क्यू-400 विमान में 67 यात्री और चालक दल के चार सदस्य सवार थे। यह विमान बांग्लादेश की US-बांग्ला एयरलाइन का था। बताया जा रहा है कि विमान त्रिभुवन इंटरनैशनल एयरपोर्ट (TIA) के पूर्वी हिस्से में जाकर गिरा।

विमान में चालक दल के चार सदस्य समेत 71 लोग सवार थे, जिनमें से 33 नेपाली नागरिक थे। नेपाल के अखबार द हिमालयन टाइम्स के मुताबिक अब तक 17 लोगों को बचाया जा चुका है, जबकि कम से कम 50 लोगों की मौत हो चुकी है। हादसे में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। हादसे के बाद एयरपोर्ट को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। एयरपोर्ट में राहत और बचाव कार्य जारी है। फिलहाल विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

टीआईए प्रवक्ता प्रेमनाथ ठाकुर ने बताया कि विमान उतरते समय रनवे पर लड़खड़ा गया और इसमें आग लग गई तथा यह हवाईअड्डे के पास एक फुटबाल मैदान में जाकर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसे में बीस से अधिक लोग घायल हो गए हैं। दुर्घटनाग्रस्त विमान बांग्लादेश की एयरलाइन यूएस-बांग्ला का था। हादसे के बाद काठमांडू के त्रिभुवन इंटरनेशनल एयरपोर्ट को जाने वाले सभी विमानों को लखनऊ और कोलकाता डायवर्ट कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें -   कोरोना के शिकार हुए ईरान के मंत्री, वायरस से 15 की मौत

बता दें कि एयरलाइन यूएस-बांग्ला एक बांग्लादेशी निजी एयरलाइन है, जिसकी स्थापना 2013 में अमेरिका और बांग्लादेश के बीच ज्वाइंट वेंचर के तहत की गई थी। इस हादसे से एक दिन पहले संयुक्त अरब अमीरात से इस्तांबुल जा रहा तुर्की का एक निजी जेट विमान ईरान के पर्वतीय क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान में सवार सभी 11 लोगों की मौत हो गई थी।

यह भी पढ़ें-

ग्लैमर की दुनिया की ये महिला कलाकार जिन्होंने खुदकुशी कर ली

यह भी पढ़ें -   हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव के अध्यक्ष जॉन यरमुथ ने तर्कहीन और विनाशकारी बताया

क्या आपको पता है कि इन चार समय पर नहीं मापना चाहिए वजन

खुलासा: 2002 में भारत पर परमाणु हमला करना चाहते थे मुशर्रफ, लेकिन डर के मारे कर न सके


मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें