सोने के फायदे नुकसान, दोपहर में सोने से कब्ज, गैस और अपच का खतरा बना रहता है

सोने के फायदे नुकसान

दोपहर में सोने के फायदे नुकसान – ठंड का मौसम आते ही दोपहर में खाना खाने के बाद नींद खूब आती है। कई लोगों को दोपहर में सोना (Sleeping in Midday) खूब अच्छा लगता है। लेकिन दोपहर में सोने से फायदे कम और नुकसान ज्यादा होता है। सर्दी के मौसम में दोपहर में सोने से पेट से संबंधित कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हो जाती है।

भारतीय वेद आयुर्वेद में कहा गया है कि व्यक्ति को दिन में नहीं सोना चाहिए। सर्दी के मौसम (Winter Season) में खासकर इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए। सर्दी के मौसम में दिन में या दोपहर में सोने से कब्ज, गैस, अपच की समस्या पैदा हो जाती है। इसके अलावा डायबिटीज और मोटापा का भी खतरा रहता है।

यह भी पढ़ें -   कान में दर्द होना - जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

दिन में सोने से कफ और पित्त का संतुलन बिगड़ जाता है और बीमारियाँ शरीर को अपना घर बना लेती है। दोपहर में नींद लेने या फिर कुछ समय के लिए नींद लेने से रात में नींद ना आने की समस्या भी होती है। हालांकि गर्मी के मौसम में दिन में सोने से मन और शरीर में फ्रेशनेस आता है।

एक स्टडी के मुताबिक, 50 प्रतिशत लोगों को दोपहर में सोने का फायदा नहीं होता है। अगर आपको दिन में नींद नहीं आता है तो इसका मतलब है कि आप पूरी तरह से स्वस्थ और थके हुए नहीं है। आपके शरीर को आराम की जरूरत नहीं है।

यह भी पढ़ें -   खिचड़ी बनाने की रेसिपी - ऐसे बनाएं खिचड़ी, लोग ऊंगलियाँ चाटते रह जाएंगे

दरअसल जिन लोगों को दिन में नींद नहीं आती है उनके शरीर में सरकेडियन रिदम होता है। यह व्यक्ति के शरीर को बताती है कि कब सोना है और कब उसे जगना है। हलांकि दोपहर में नींद के कुछ फायदे भी होते हैं।

दोपहर में सोने के फायदे – Benefits of sleeping in afternoon
  1. तनाव में कमी होना
  2. कैफीन की कमी पूरी होना
  3. शारीरिक चुस्ती आना
  4. याददाश्त बेहतर होना
  5. मानसिक चुस्ती आना
  6. काम में मन लगना
  7. दिन भर मूड अच्छा रहना
किन-किन लोगों को दिन में सोना चाहिए?

स्टूडेंट्स – पढ़ाई के बाद थोड़ी सी झपकी ब्रेन को आराम दिलाती है।
बुजुर्ग – शरीर को आराम मिलता है और गैस और अपच की समस्या कम होती है।
दुखी लोग – दोपहर की नींद दर्द भूलने में सहायक होता है और दिमाग शांत रहता है।
मजदूर – लगातार और कड़ी मेहनत के बाद दिन में सोने से थकान कम होती है और शरीर फिर से सक्रिय हो जाता है।

यह भी पढ़ें -   नाखूनों से पता करें कि आपके शरीर में कौन सी बिमारी है