फिट इंडिया मिशन के सपने को साकार करेगा आकव जिम, नए रूप में हुआ रिलॉन्च

फिट इंडिया मिशन

दिल्ली में करनाल रोड पर खामपुर में सड़क किनारे आकव जिम equipment एक नए रूप में लॉंच हुआ और रीलॉंच के साथ एक tagline ‘फ़िट है तो हिट है’ दी गई है। रीलॉंच के मौक़े पर फ़िट्नेस इंडस्ट्री का एक बड़ा नाम संग्राम चौघले भी मौजूद थे। आकव ने संग्राम चौघले को अपना ब्रांड ऐम्बैसडर बनाया है। आकव जिम फिट इंडिया मिशन के तहत खुद को स्थापित करना चाहता है।

इसके साथ-साथ आकव जिम इस बात पर भी जोर दे रहा है कि भारत में इस क्षेत्र में आयात के बजाय निर्यात करे। बता दें कि फिट इंडिया मिशन की शुरुआत 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर की गई। इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। इस मिशन का मुख्य उद्देश्य है भारत के लोगों को फिटनेस के लिए जागरूक करना। फिट इंडिया मिशन को खेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा लॉन्च किया गया।

यह भी पढ़ें -   सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों पर लगाई रोक, केंद्र सरकार ने किया कमेटी का गठन

दरअसरल आकव जिम का मुख्य मकसद है कि भारत सरकार के फिट इंडिया मिशन के तहत खुद को बाजार में स्थापित करे। आकव जिम की शुरुआत इसी को ध्यान में रखते हुए की गई है। आकव की मुख्य उद्येश्य है कि भारत में फिटनेस कंसर्न लोगों को सस्से से सस्ता और महंगे से महंगा सामान भारत में ही मिले।

आकव ने इस मौके पर इक्विप्मेंट को हर तरह से चेक कर बेसिक्स पर काम करने का ज़िम्मा भी संग्राम को सौंपा। आकव को ‘फ़िट है तो हिट के साथ’ आगे बढ़ाने और पीछे से बैक्बोन का काम कर रहे मालिक संजय नागपाल ने इसके पीछे का मक़सद भी बताया।

यह भी पढ़ें -   16 मार्च से बदल गए हैं डेबिट-क्रेडिट कार्ड के नियम, जरूर जानें

आकव जिम के ओनर संजय नागपल के बेटे और आकव जिम के कर्ता-धर्ता और आकव के हर एक इक्विप्मेंट को बारीकी से देखकर मैन्युफ़ैक्चर कराने वाले शुभनीत ने भी कम्पनी के बारे में जानकारी दी और बताया कि वो कैसे संग्राम और अपने पिता संजय नागपाल के साथ मिलकर काम करेंगे।

आकव के ब्रांड ऐम्बैसडर संग्राम चौघले ने समझाया और बताया कि कैसे वो आकव की मदद और सहयोग से गाँव-गाँव तक अपनी knowledge और आकव के हर बजट वाले equipments को पहुचाएँगे।

फ़िलहाल जिस मक़सद को लेकर आकव ने नयी शुरुआत की है वो वाकई अलग और अहमियत वाला है, क्योंकि भारत के बाहर तक तो आकव काम कर ही रही है लेकिन उसका मक़सद भारत से बाहर तक भारत की फ़िट्नेस को लेकर एक अलग पहचान बनाना है। आकव सिर्फ इंपोर्ट तक नहीं बल्कि भारत को इक्स्पोर्ट तक पहुँचाना चाहता है।

यह भी पढ़ें -   सुशांत सिंह राजपूत मरणोपरांत होंगे सम्मानित, नेशनल अवॉर्ड मिल सकता है