रिजर्व बैंक ने रेपो दर में नहीं किया कोई बदलाव, 5.15 प्रतिशत पर यथावत रखा

रिजर्व बैंक

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष की अंतिम मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक की। रिजर्व बैंक ने अपनी अंतिम मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में रेपो दर को 5.15 प्रतिशत पर यथावत रखा। लगातार दूसरी बैठक में रेपो दर को स्थिर रखा गया है। केंद्रीय बैंक ने मौद्रिक नीति समिति की बैठक के नतीजों की गुरुवार को घोषणा करते हुए कहा कि जब तक संभव है, वह नीतिगत रुख को उदार बनाये रखेगा।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

केंद्रीय रिजर्व बैंक ने आर्थिक वृद्धि दर 2019-20 में पांच प्रतिशत रहने के अनुमान को बनाये रखा। बैंक ने कहा कि आर्थिक वृद्धि 2020-21 में सुधरकर छह प्रतिशत हो सकती है। आर्थिक वृद्धि दर अभी भी अपनी संभावित क्षमता से कम है। आर्थिक गतिविधियां नरम बनी हुई हैं। जिन चुनिंदा संकेतकों में हालिया समय में सुधार देखने को मिला है, व्यापक स्तर पर इनमें भी अभी तेजी आनी शेष है।

यह भी पढ़ें -   भारतीय तेल कंपनियों ने की तेल आयात में कटौती तो ईरान ने दिया यह जवाब

बैंक ने समीक्षा बैठक के बाद कहा कि वृद्धि दर की तुलना में मुद्रास्फीति की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए मौद्रिक नीति समिति को लगता है कि स्थिति को यथावत रखा जाना चाहिये। निकट भविष्य में मुद्रास्फीति के उच्च बने रहने की आशंका है। केंद्रीय बैंक ने मुद्रास्फीति के परिदृश्य को बेहद अनिश्चित बताया।

रिजर्व बैंक ने कहा कि कि मौद्रिक नीति समिति के सभी छह सदस्यों ने रेपो दर यथावत रखने का पक्ष लिया। उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ने फरवरी 2019 से अक्टूबर 2019 के दौरान रेपो दर में 1.35 प्रतिशत की कटौती की थी।

यह भी पढ़ें -   दिल्ली में पेट्रोल 82 पैसे, डीजल 85 पैसे हुआ सस्ता
Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।