Income Tax Return filling Online – आयकर रिटर्न ऑनलाइन भरें, जानिए तरीका

Income Tax Return filling Online

Income Tax Return filling Online – Income Tax Return भरने से एक वित्त वर्ष में टैक्सपेयर की आय, निवेश और कर देनदारी का पता चलता है। अगर आप भी Income Tax Return भरते हैं तो किसी भी प्रकार की आयकर विभाग की नोटिस बचने के लिए समय से इनकम टैक्स रिटर्न भरें। अगर किसी व्यक्ति की सलाना आय 2.5 लाख से ज्यादा है तो उन्हें Income Tax Return भरना आवश्यक है।

How to file Income Tax Return online? इनकम टैक्स रिटर्न ऑनलाइन कैसे भरें?

Step – 1. सबसे पहले आप इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट खोलें। फिर इनकम टैक्स इंडिया ई-फीलिंग नाम की वेबसाइट पर लॉग इन करें। अगर आपने फॉर्म-16, टैक्स स्टेटमेंट जैसे डाक्यूमेंट्स एकत्र कर लिए हैं तो यह प्रक्रिया आपके आसान हो जाएगा।

यह भी पढ़ें -   MSME Full Form in Hindi - MSME की परिभाषा, Types और Benefits क्या है?

Step – 2. अब वेबसाइट पर अपना अकाउंट बनाएं और उसी अकाउंट से लॉनइन करना होगा। आप अपने पैन कार्ड और जन्म की तारीख की मदद से यहां पर अकाउंट बना सकते हैं। आपकी यूजर आईडी आपका पैन कार्ड नंबर होगा। इसी से आप इनकम टैक्स रिटर्न भरने के लिए वेबसाइट में लॉग इन कर सकते हैं।

Step – 3. अब आपके जरूरी चीजें हो चुकी हैं। अब वेबसाइट पर जाकर लॉग इन कर लें। यहां पर आप ऑनलाइन फॉर्म और एक्सएमएल फाइल के जरिए आईटीआर भर सकते हैं।

Step – 4. वेबसाइट पर लॉग इन करने के बाद e-file section पर क्लिक करें और वहां पर इनकम टैक्स रिटर्न को चुनें।

यह भी पढ़ें -   CRPF Full Form in Hindi - जानिए सीआरपीएफ की स्थापना और कार्यें के बारे में

Step – 5. इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) पर क्लिक करने के बाद आपका पैन कार्ड पहले से सेलेक्ट होगा। अब असेसमेंट ईयर में करंट साल को चुने। उसके बाद फॉर्म को सेलेक्ट कर लें।

Step – 6. फॉर्म चुनने के बाद अब उसका वेरिफिकेशन कर लें। इसके लिए आधार ओटीपी को चुना जा सकता है। आपका इनकम टैक्स रिटर्न फाइल हो जाएगा। अगर आपका फोन आधार से लिंक नहीं है तो आपको ऑफलाइन इनकम टैक्ट रिटर्न भरना पड़ेगा।

किसके लिए कौन सा फॉर्म जरूरी है
  • ITR-1: यह फॉर्म सैलरी पाने वाले, पेंशन से इनकम करने वाले, एक प्रॉपर्टी से इनकम या अन्य किसी एक स्त्रोतों से इनकम करने वाले के लिए होता है।
  • ITR-2: यह फॉर्म पूंजीगत लाभ (कैपिटल गेन) पर चुना जाता है।
  • ITR-2A: इसी के अंतर्गत यह फॉर्म एक से अधिक घरों से इनकम होने की सूरत में भरना होगा। हालांकि इसमें कोई पूंजीगत लाभ नहीं होना चाहिए।
  • ITR-3, ITR-4 और ITR-4S का फॉर्म बड़े-छोटे कारोबारियों और पेशेवरों के लिए होता है।
यह भी पढ़ें -   बिहार की संस्कृति में मगध, अंग, मिथिला तथा वज्जी संस्कृतियों का अनोखा मिश्रण
ये सावधानी रखना जरूरी

इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) भरते समय हर स्टेप पर अपने फाइल को सेव करते रहें। अपना पता, मोबाइल नंबर, बैंक खातों से जुड़ी कोई जानकारी या विवरण की अच्छे जांच कर लें। अगर कोई बदलाव करना हो तो पहले ही कर लें।