इस गेम से बच्चों में बढ़ रही आत्महत्या की प्रवृति, गेम से बच्चों को रखें दूर

नई दिल्ली। आजकल तरह-तरह के गेम दुनियाभर में लोकप्रिय हो रहे हैं। कई बार ऐसा सुनने में आता है कि गेम खेलते-खेलते किसी ने आत्महत्या कर ली। दुनियाभर में अभी तक 200 से ज्यादा युवाओं को मौत की नींद सुला चुका ये गेम अब भारत में भी आ चुका है। इस गेम से सबसे ज्यादा मौत रूस में हुई है। रूस में सबसे ज्यादा 113 लोगों ने गेम खेलते-खेलते आत्महत्या कर ली। ‘ब्लू वेल’ नाम की इसी गेम का शिकार हुआ मुंबई का मनप्रीत और उसने 7वीं मंजिल से कूदकर खुदकुशी कर ली।

Read Also: नीतीश का दांव: आखिरकार ये खेल किस करवट बैठेगा ?

‘ब्लू वेल’ को ‘द ब्लू व्हेल चैलेंज’ गेम नाम से भी जाना जाता है। रूस के फिलिप बुडेकिन ने ये गेम बनाया था। इस ऑनलाइन गेम खेलने वाले शख्स को हर दिन एक डेयर दिया जाता है। डेयर पूरा के बाद गेम खेलने वाला शख्स अपनी फोटो एडमिन को भेजता है। इस गेम की शुरुआत में खेलने वाले शख्स को एडमिन हॉरर फिल्म देखने जैसे आसान टास्क देता है। इसके बाद गेम का लेवल बढ़ता चला जाता है और इसके बाद गेम खेलने वाले शख्स को शरीर को चोट पहुंचाने जैसे टास्क दिए जाते हैं।

Read Also: अब शरीर में लगेंगे चिप, चिप की मदद से कर सकेंगे अपने सारे काम

गेम खेलने वाला शख्स धीरे-धीरे गेम का आदी हो जाता है। जब गेम को खेलते हुए गेमर अपने सारे टास्क को पूरा कर लेता है तो अंत में ए़डमिन सुसाइड का डेयर देता है। शायद इसी का शिकार मुंबई का मनप्रीत हो गया है। ब्लू वेल के अलावा दुनियाभर में कुछ और ऐसे गेम्स भी हैं जो बच्चों को सुसाइड करने के लिए मजबूर करते हैं। इसमें फायर चैलेंज, साइबर बुलिंग और चोकिंग जैसे गेम शामिल हैं।

Read Also: अब अभिनेत्री मधुबाला की मुस्कान भी खिलेगी मैडम तुसाड म्यूजियम में

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें