अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस- जानिए क्यों मनाया जाता है महिला दिवस?

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

डेस्क। हर साल दुनिया के कई देशों में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। प्रत्येक साल महिला दिवस के मौके पर एक थीम बनाई जाती है जो हर साल अलग होती है। 2020 की महिला दिवस की थीम है आई एम जेनेरेशन ईक्वालिटी: रियलाइजिंग वूमेंस राइट (I am Generation Equality: Realizing Women’s Rights)। 8 मार्च 2020 का अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International women’s day) इसी थीम पर आयोजित किया जा रहा है।

कब हुई थी महिला दिवस की शुरुआत?

United Nation ने 8 मार्च 1975 को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International women’s day) में मनाने की मंजूरी दी थी। हालांकि महिला दिवस का आयोजन इससे पहले भी किया जाता था। सबसे 1909 में अमेरिका में 28 फरवरी को इसकी शुरुआत हुई थी।

यह भी पढ़ें -   राज्यसभा चुनाव की प्रक्रिया क्या है? कैसे होता है राज्यसभा के सांसदों का चुनाव?

यूरोप में महिलाओं ने 8 मार्च को पीस एक्टिविस्ट्स को सपोर्ट किया था और रैलियों में हिस्सा लिया था। इससे पहले 28 फरवरी को ही रूसी महिलाओं ने महिला दिवस मनाया था। यह महिला दिवस पहले विश्व युद्ध के विरोध स्वरूप मनाया गया था।

कब अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की मांग की गई थी?

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (International women’s day) मनाने के लिए एक महिला क्लारा जेटकिन ने इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस के दौरान आवाज उठाई थी। क्लारा ने 1910 में कोपेनहेगन में कामकाजी महिलाओं के लिए महिला दिवस मनाने का सुझाव दिया था। उस दौरान इस कॉन्फ्रेंस में 100 महिलाएँ मौजूद थीं जो 17 अलग-अलग देशों से थीं।

यह भी पढ़ें -   भारत में आपातकाल लगाने का मुख्य कारण क्या था? Emergency in India

महिला दिवस को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में 1975 में मान्यता मिली जब संयुक्त राष्ट्र ने इसे बार्षिक तौर एक थीम के साथ मनाने की शुरुआत की। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की पहली थीम ‘सेलीब्रेटिंग द पास्ट, प्लानिंग फॉर द फ्यूचर’ थी। इसी थीम पर 1975 में पहली बार आधिकारिक रूप से महिला दिवस मनाया गया था।

आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International women’s day) को दुनिया भर में मनाया जाता है। इस मौके पर दुनिया के कई हिस्सों में महिलाओं के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। 1917 में सोवियत संघ (अब रूस) में 8 मार्च को राष्ट्रीय छुट्टी की घोषणा की गई थी। यह वहां के महिलाओं के सम्मान में किया गया था।

यह भी पढ़ें -   कोरोना का कहर- भारत में कुछ इलाकों में गंभीर खतरा, तीसरे स्टेज में पहुंचा कोरोना