Champaran Movement: गांधी जी के इस सत्याग्रह का ‘महात्मा’ से है गहरा संबंध

डेस्क। चंपारण आंदोलन का मूल अर्थ क्या था? अंग्रेजों के विरूद्ध गाँधी जी के नेतृत्व में कई अंदोलन हमारे देश में किए गए थे और इन्ही आंदोलनों में से एक आंदोलन था चंपारण सत्याग्रह (Champaran Movement)। ये आंदोलन 20वीं सदी में किसानों के हित के लिए किया गया था। जिसकी गूँज पूरे भारत में हुई थी। 19 अप्रैल 1917 में शुरू हुए इस आंदोलन (Champaran Movement) को किसानों की मांग पूरा करने के लिए शुरू किया गया था।

चंपारण सत्याग्रह आंदोलन क्या था? What is Champaran Movement?

चंपारण बिहार का एक जिला है। इस जिले के किसानों से जबरदस्ती नील की खेती करवाई जा रही थी। जिससे किसान काफी परेशान थे। नील की खेती करने से उनकी जमीन खराब हो रही थी। किसानों को उनके खेतों के 20 हिस्सों में से 3 भागों में नील की खेती करने के लिए मजबूर किया जा रहा था। इसे तिनकठिया पद्धति के नाम से जाना जाता था। जिसके कारण किसान अन्य खाने की चीजों की खेती नहीं कर पा रहे थे। इस नील के खेती को किसान बाहर नहीं बेच सकते थे। उन्हें बाजार मूल्य से कम कीमतों पर बागान के मालिकों को बेचना पड़ता था। ये किसानों पर अत्याचार और उनका आर्थिक शोषण था।

चंपारण आंदोलन में किसानों के बीच गांधी जी

जिस वक्त बिहार के चंपारण जिले में ये आंदेलन हो रहा था। उसी वक्त देश को आजाद कराने की लड़ाई भी शुरू हो चुकी थी। हिन्दुस्तान को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराने के लिए कई आन्दोलन हुए। जिसमें सत्याग्रह आन्दोलन का अपना एक विशेष महत्व है। “सत्याग्रह’ का मूल अर्थ है ‘सत्य’ के प्रति ‘आग्रह’, ये दोनों ही शब्द संस्कृत भाषा के शब्द हैं। जिसका शाब्दिक अर्थ सत्यता पर आधारित है।

चंपारण आंदोलन से जुड़े तथ्य-
  • चंपारण आंदोलन कब शुरू हुआ  –  19 अप्रैल 1917
  • कहां शुरू हुआ आंदोलन  –  चंपारण जिला, बिहार
  • क्यों किया गया आंदोलन  –  किसानों के शोषण के खिलाफ शुरू हुआ आंदोलन
  • किसके नेतृत्व में हुआ चंपारण आंदोलन  –  महात्मा गांधी, ब्रजकिशोर प्रसाद, राजेंद्र प्रसाद
  • किन-किन बड़े नेताओं ने हिस्सा लिया  –  रामनवमी प्रसाद, अनुग्रह नारायण सिन्हा इत्यादि

सत्याग्रह का मूल लक्षण है, अन्याय का सर्वथा विरोध करते हुए अन्यायी के प्रति वैरभाव न रखना। गांधी जी ने दक्षिण अफ़्रीका के ट्रांसवाल में औपनिवेशिक सरकार द्वारा एशियाई लोगों के साथ भेदभाव के क़ानून को पारित किये जाने के ख़िलाफ़ 1906 में पहली बार सत्याग्रह का प्रयोग किया था। भारत में गाँधी जी के नेतृत्व में सत्याग्रह आन्दोलन के अंर्तगत अनेक कार्यक्रम चलाए गये थे। जिनमें प्रमुख है, चंपारण सत्याग्रह, बारदोली सत्याग्रह और खेड़ा सत्याग्रह।

डांडी यात्रा के दौरान महात्मा गांधी

चंपारण आंदोलन में महात्मा गांधी का योगदान

ये सभी आन्दोलन भारत की आजादी के प्रति महात्मा गाँधी के योगदान को परिलक्षित करते हैं। गाँधी जी ने कहा था कि, ये एक ऐसा आंदोलन (Champaran Movement) है जो पूरी तरह सच्चाई पर कायम है और हिंसा का इसमें कोई स्थान नहीं है। आज़ादी की लड़ाई की शुरुआत वे किसानों की तरफ खड़े होकर शुरू कर रहे थे। इस आंदोलन के बाद महात्मा गांधी की आस्था भारत के गरीबों और किसानों पर गहरी होती गई।

फरवरी 1916 को काशी हिंदू विश्वविद्यालय के उद्घाटन-समारोह में गांधी ने कहा था- ‘हमें आज़ादी किसानों के बिना नहीं मिल सकती। आज़ादी वकील, डॉक्टर या संपन्न ज़मींदारों के वश की बात नहीं है। गांधी जी के नेतृत्व और आंदोलन उन गरीबों और किसानों के लिए था, जिनको भूखा, नंगा देखकर गांधी ने एक धोती पहननी शुरू कर दी थी।

चंपारण आंदोलन (Champaran Movement) की अन्य बातें

  • इस आंदोलन से अंग्रेजों को गांधी जी की ताकत के बारे में पता चला।
  • चंपारण आंदोलन के सौ साल पूरे हो चुके हैं।
  • इस आंदोलन के बाद गांधी जी बापू के नाम से पुकारे जाने लगे।
  • चंपारण आंदोलन (Champaran Movement) के दौरान ही संत राउत ने गांधी जी बापू के नाम से पुकारा था।
क्विट इंडिया मूवमेंट का दृष्य

किसानों पर कर्ज और फसलों के उचित दाम न मिलने जैसे मुद्दे पर भले ही देश भर के किसान संगठन एक साथ आकर आंदोलन कर रहे थे, लेकिन आर्थिक तंगी और कर्ज के चलते किसानों की आत्महत्या की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही थी। महात्मा गाँधी ने अप्रैल 1917 में राजकुमार शुक्ला के निमंत्रण पर बिहार के चम्पारण (Champaran Movement) के नील कृषकों की स्थिति का जायजा लेने वहाँ पहुँचे। उनके दर्शन के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। किसानों ने अपनी सारी समस्याएँ बताईं।

अशांति फैलाने के आरोप में महात्मा गांधी हुए गिरफ्तार

आंदोलन के दौरान अशांति फैलाने के आरोप के बाद पुलिस ने गांधी जी को गिरफ्तार कर लिया। जैसे ही किसानों को गांधी जी की गिरफ्तारी के बारे में पता चला, सभी किसानों ने गांधी जी के पक्ष में पुलिस स्टेशन और कोर्ट के बाहर प्रदर्शन शुरू कर दिया। प्रदर्शन को देखते  हुए गांधी जी को अदालत ने रिहा कर दिया।

किसानों की शिकायत की जांच के लिए समिति का गठन

आंदोलन और गांधी जी की रिहाई के बाद अंग्रेजी शासन ने किसानों की समस्या को ध्यान में रखते हुए एक जांच समिति का गठन किया। इस जांच समिति में गांधी जी को भी हिस्सा बनाया गया। समिति की रिपोर्ट के बाद कुछ महीनों के भीतर ही चंपारण कृषि विधेयक को पारित किया गया। इस विधेयक के पारित होने के बाद किसानों को काफी राहत मिला। जमींनदारों की मनमानी पर रोक लगाई गई। विधेयक में किसानों को जमीन का हक और अधिक मुआवजा देने की व्यवस्था की गई।

राष्ट्रपति महात्मा गांधी

गांधी जी ने किसानों की समस्याओं को देखते हुए चंपारण में सत्याग्रह (Champaran Movement) किया। पुलिस सुपरिटेंडंट ने गांधीजी को जिला छोड़ने का आदेश दिया। गांधीजी ने आदेश मानने से इंकार कर दिया। अगले दिन गांधीजी को कोर्ट में हाजिर होना था। हजारों किसानों की भीड़ कोर्ट के बाहर जमा थी। गांधीजी के समर्थन में नारे लगाये जा रहे थे। हालात की गंभीरता को देखते हुए मेजिस्ट्रेट ने बिना जमानत के गांधीजी को छोड़ने का आदेश दिया। लेकिन गांधीजी ने कानून के अनुसार सजा की माँग की।

चंपारण में गांधी जी द्वारा सत्याग्रह की यह पहली घटना थी। चंपारण आंदोलन (Champaran Movement) में गांधी जी के कुशल नेतृत्व से प्रभावित होकर गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर ने उन्हें महात्मा के नाम से संबोधित किया। जिसके बाद उन्हें लोग महात्मा गांधी के नाम से पुकारने लगे।

Share
Published by
Admin

Recent Posts

Amrapali Dubey Songs HD: Download Bhojpuri Songs of Amrapali Dubey

Amrapali Dubey Songs HD: Download Bhojpuri Songs of Amrapali Dubey Amrapali Dubey Songs HD: भोजपुरी अभिनेत्री आम्रपाली दुबे (Amrapali Dubey…

January 14, 2020

शाहीन बाग-कालिंदी कुंज मार्ग में कानून-व्यवस्था कामय करे पुलिस- होईकोर्ट

29 दिनों से बंद पड़े कालिंदी कुंज-शाहीन बाग मार्ग को खोलने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को निर्देश दिया…

January 14, 2020

संसद पर हमला से चर्चा में आए डीएसपी और आतंकियों के बीच हुई थी 12 लाख की डील

नई दिल्ली। संसद हमले से चर्चा में आए, कश्मीर के कुलगाम में दो आतंकियों के साथ पकड़े गए डीएसपी देविंदर…

January 13, 2020

जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी

बबिता सिंह। जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी कहती नानी, कहती दादी कहता ये संसार बचा लो पानी ! कहता…

January 12, 2020

Rajendra Prasad Biography in Hindi: राजेंद्र प्रसाद की जीवनी हिन्दी में

Rajendra Prasad Biography in Hindi: डॉ राजेंद्र प्रसाद की जीवनी हिन्दी में जानिए डेस्क। भारतरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद की जीवनी हिंदी…

January 6, 2020

अमेरिका और ईरान में बढ़ा तनाव, अमेरिका ने दी इराक पर प्रतिबंध की धमकी

हन्ट आई न्यूज। अमेरिका और ईरान के बीच जंग के हालात लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अमेरिका-ईरान के बीच बढ़ते…

January 6, 2020

जेएनयू हिंसा: 20 से ज्यादा छात्र घायल, गृहमंत्री ने मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में एक बार फिर हिंसा हुई है। जेएनयू हिंसा में छात्रों के…

January 6, 2020

List of Holiday: 2020 Holiday List, देखें पूरी लिस्ट साल 2020 की

डेस्क। List of Holiday, Happy new year 2020 का ये नया साल शुरू हो चुका है। 2020 में कौन-कौन से Holidays…

January 5, 2020

Indian Railway ने दिया न्यू ईयर गिफ्ट! 1000 किलोमीटर पर 20 से 40 रुपए बढ़ा किराया

नई दिल्ली। भारतीय रेल (Indian Railway) ने लोगों को न्यू ईयर का गिफ्ट दिया है। इंडियन रेलवे (Indian Railway) ने…

January 3, 2020

देश के पहले Chief of Defense Staff बने जनरल बिपिन रावत, जनरल मुकुंद नए सेना प्रमुख

जनरल बिपिन रावत देश के पहले सीडीएस प्रमुख बनाए गए हैं। वे 1 जनवरी 2020 से अपना कार्यभार संभालेंगे। जनरल…

December 31, 2019

भोजपुरी स्टार पवन सिंह के इस गाने ने मचाया धमाल, देखें वीडियो

नई दिल्ली। भोजपुरी स्टार पवन सिंह के गाने (Pawan Singh Song) लोगों को खूब पसंद आते हैं। पवन सिंह के…

December 26, 2019

CAA: देशभर में विरोध, यूपी में 879 की गिरफ्तारी, योगी सरकार की कार्रवाई शुरू

नई दिल्ली। देशभर में सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन हो रहा है। यूपी में अबतक सीएए (सिटीजनशिप एमेंडमेंट एक्ट)…

December 22, 2019