इजरायल की ये मशीनें, जिसका लोहा पूरी दुनिया मानती है

नई दिल्ली। टेक्नोलॉजी के मामले में इजरायल उन देशों में शामिल है जहां पर दुनियां का हर एडवांस टेक्नोलॉजी उपलब्ध है। वर्तमान समय में दुनिया के कई देशों में पैदावार को लेकर काफी कठनाइयों का सामना पड़ रहा है। लेकिन इजरायल ने अपनी तकनीति विकास के बल पर इन कठनाईयों कम भी किया है और कम जमीन से ज्यादा पैदावार भी हासिल किया है।

इजरायल आधुनिक टेक्नोलॉजी से न सिर्फ खेती से जुड़ी कई समस्याओं का हल निकालने में सफल हुआ बल्कि दुनिया के सामने एक उदाहरण पेश किया है कि खेती घाटे का नहीं, एक फायदे का सौदा है। इजरायल ने अपनी तकनीक की क्षमता के बल पर मरुस्थल पर खेती कर दुनियां को आश्चर्य में डाल दिया है।

इजरायल ने न केवल अपने मरुस्थलों को हराभरा किया, बल्कि अपनी तकनीक को दूसरे देशों तक भी पहुंचाया। खेती-किसानी के लिए इजरायल ने बाग-बगीचों और पेड़ों को एक जगह से दूसरी जगह शिफ्ट करने जैसी कई ऐसी मशीनें बनाईं, जिनकी आज दुनिया में तूती बोलती है।

बता दें कि इजरायल एक छोटा सा देश है जो अपने चारो तरफ दुश्मन देशों से घिरा हुआ है। यहां की जमीन मरुस्थली है। इजरायल में बारिश बहुत कम होती है जिसकी वजह से यहां पर बारिश का फायदा ज्यादा से ज्यादा और जल्दी ही उठाना पड़ता है। दुनिया के अधिक्तर देशों में यह एक बड़ी मुश्किल होती है कि बारिश के पानी का भंडारण कैसे किया जाए।

इसके साथ-साथ खेतों को परंपरागत तरीके जोतने में काफी समय नष्ट हो जाता है। यही आम बातें इजरायल में भी कुछ वर्षों पहले तक थी। लेकिन इजरायल ने इसका हल निकाला और अपनी तकनीक के बल पर इन समस्याओं को समाप्त कर दिया। सबसे पहले इजरायल ने इटली से खेतों को जोतने वाली मशीनें खरीदी। लेकिन यह मशीन काफी बड़ी और विशालकाय थीं। जिसका फायदा इजरायल पूरी तरह से नहीं उठा पा रहा था।

बाद में इजरायली कंपनी एग्रोमॉन्ड लिमिटेड ने खुद ही इटली के मशीनों से भी आधुनिक मशीनों का निर्माण प्रारंभ किया। जिसके बाद इजरायल ने कृषि के विकास का मॉडल ही बदल दिया। इजरायल में तैयार यह मशीनें कुछ ही घंटों में सैकड़ों एकड़ जमीन जोत देती है। इजरायल में ये मशीनें अधिकतर किसानों के पास है। इसके अलावा किसान इन्हें किराए पर भी ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

Brown Rice: स्वास्थ्य के लिए है बेस्ट ?

ग्लैमर की दुनिया की ये महिला कलाकार जिन्होंने खुदकुशी कर ली

एक विरासत: आधुनिक भारत के प्रथम राष्ट्रपति भारतरत्न डॉ राजेंद्र प्रसाद


मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें

Show comments

This website uses cookies.

Read More