sukma

सुकमा के शेरों की दास्तां

कुचल, मसल दो उन सबको अब, चैन जिन्होंने छीना है। और आस अब बड़ी वतन की, अरमान बड़ा कर आये…

Wednesday, 26th April 2017

This website uses cookies.

Read More