बिहार के छात्रों और श्रमिकों को लेकर विशेष ट्रेन पटना के लिए रवाना

बिहार के छात्रों

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के बाद से ही बिहार के बाहर फंसे छात्रों और मजदूरों की घर वापसी के लिए बिहार सरकार के आग्रह को केंद्र सरकार ने मान लिया है। केंद्र सरकार ने राज्य के बाहर रह रहे छात्रों और मजदूरों को लाने के लिए विशेष ट्रेन चलाने की अनुमति दे दी है।

केंद्र सरकार से अनुमति मिलते ही अन्य प्रदेशों में फंसे बिहार के छात्रों और प्रवासी मजदूरों को लेकर विशेष ट्रेन जयपुर से पटना के लिए रवाना हो चुकी है। बता दें कि केंद्र सरकार ने लॉकडाउन-3 का ऐलान कर दिया है। 3 मई से लॉकडाउन की सीमा को बढ़ाकर 17 मई तक कर दी गई है। जिसके बाद रेलवे ने फैसला लेते हुए सभी ट्रेनें 17 मई तक निलंबित कर दी है।

इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को केंद्र सरकार से बिहार के बाहर रह रहे छात्रों और प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने का आग्रह किया था। जिसके बाद केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के नियमों में छुट देते हुए बाहर रह रहे लोगों को वापस लाने के लिए ट्रेन चलाने की इजाजत दी है।

यह भी पढ़ें -   कोरोना का कहर: देशभर में पिछले 24 घंटों में 99 मौतों के साथ 2564 नए मामले मिले

इससे पहले केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के नियमों ढील देते हुए छात्रों, मजदूरों और तीर्थ यात्रियों के लिए विशेष व्यवस्था करने और इन लोगों के लिए लॉकडाउन में ढील देने की घोषणा की थी। केंद्र सरकार बिहार से बाहर रह रहे लोगों को बसों के जरिए राज्य सरकारों को अपने प्रदेश में लोगों को लाने का निर्देश दिया था।

केंद्र सरकार के निर्देश पर बिहार सरकार ने बसों द्वारा लोगों को वापस लाने पर अपने हाथ खड़े कर लिए थे और केंद्र सरकार ने विशेष ट्रेन चलाने का आग्रह किया था। जिसके बाद केंद्र सरकार ने अलग -अलग राज्यों में फंसे लोगों को वापस लाने के लिए विशेष ट्रेन चलाने की इजाजत दे दी।