Categories: दुनिया

पीएम मोदी का इजरायल दौरा, जानें क्यों है अहम

नई दिल्ली। किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री का ये पहला इजरायल दौरा है। अभी तक किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल का दौरा नहीं किया है। हालांकि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, गृहमंत्री इत्यादि का इजरायल दौरा पहले हो चुका है। लेकिन किसी प्रधानमंत्री का ये पहला इजरायल दौरा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को जर्मनी और इजरायल के तीन दिन के दौरे पर रवाना हो गए।

Read Also: डोकलम विवाद: सिक्किम सीमा पर भारत ने बढ़ायी सैनिकों की तैनाती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ये इजरायल यात्रा कई मायनों में महत्वपूर्ण है। इस यात्रा में कई महत्वपूर्ण मुद्दे जैसे सैन्य, कृषि, जल और अंतरिक्ष तकनीक आदि विषयों पर बातचीत हो सकती है। पीएम मोदी की ये यात्रा इन कारणों से महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

1 वैश्विक राजनीति में असर –

बता दें कि जब पीएम मोदी अमेरिका के दौरे पर थे तब इजराइली अखबार द मार्कर ने उन्हें दुनिया का सबसे अहम प्रधानमंत्री बताया था। जाहिर है कि इजरायल पीएम मोदी को वैश्विक नेता के रूप में स्वीकार करता है। साथ ही भारत फिलिस्तीन से टकराव के मामले में इजरायल के लिए मददगार साबित हो सकता है।

Read Also: ये है अमेरिका का एरिया 51, दफन हैं कई अनसुलझे राज !

2 किसी भारतीय पीएम का पहला दौरा-

पीएम मोदी की ये यात्रा किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली यात्रा है। गौरतलब है कि 1948 में जब इजरायल देश का उदय हुआ था, उसके दो साल बाद भारत ने इजरायल को एक देश की मान्यता दी थी। लेकिन उसके बाद से आजतक किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री ने इजरायल का दौरा नहीं किया था।

3 रक्षा क्षेत्र में सहयोग-

गौरतलब है कि इजरायल रक्षा के क्षेत्र में दुनिया में सबसे अग्रणी देशों में से एक है। भारत अमेरिका और रूस के बाद इजरायल से ही सबसे ज्यादा हथियार खरीदता है। भारत ने 2012 से 2016 के बीच 40 प्रतिशत से ज्यादा हथियार इजरायल से खरीदे हैं। भारत का चीन और पाकिस्तान से युद्ध में इजरायल ने मदद की थी।

Read Also: देवशयनी एकादशी से चार महीने तक कोई भी शुभ कार्य नहीं होंगे

4  जल प्रबंधन समझोता-

जल प्रबंधन भारत के लिए एक बड़ी समस्या है। इजराइल के पास जलप्रबंधन की काफी विकसित तकनीक है इसलिए इस क्षेत्र में वो भारत के लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। भारत ने इजरायल के साथ बीते 28 जून 2017 को “नेशनल कैंपेन फॉर वाटर कंजरवेशन इन इंडिया” के एमओयू पर साइन किया है।

5 कृषि क्षेत्र में –

भारत आज भी एक कृषि प्रधान देश है। कृषि तकनीक के मामले में इजरायल काफी आगे है। भारत अगर कृषि तकनीक के क्षेत्र में इजरायल के साथ समझौता करता है तो यह भारत के लिए काफी फायदेमंद होगा।

Read Also: फेसबुक से इतने नाराज हुए अमिताभ बच्चन कि लिख दिया ट्विटर पर ये

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें

यहां प्रदर्शित चित्रों को अलग-अलग जगहों से लिया जाता है। इसपर हम दावा नहीं करते। इनपर इनके मालिकों का अपना कॉपीराइट है।

Leave a Comment

Recent Posts

लोगों की लापरवाही ने बढ़ाया कोरोना! फेल हो सकता है लॉकडाउन का मकसद

भारत में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार की तरफ से 21 दिनों का…

April 2, 2020

कोरोना का संक्रमण- फिर ये सबक केवल सबक बनकर न रह जाए

कोरोना का संक्रमण थमेगा और जिंदगी अपनी पटरी पर भी लौटेगी। इसमें विज्ञान के साथ…

April 1, 2020

1 अप्रैल से खत्म हो जाएगा इन बैंकों का वजूद, कुछ वस्तुओं पर अतिरिक्त टैक्स

नई दिल्ली। 1 अप्रैल से देश में नया वित्तीय वर्ष 2020-21 शुरु हो रहा है।…

April 1, 2020

देश में कोरोना के बढ़े मामले, संक्रमित लोगों की संख्या 1600 के पार

नई दिल्ली। देश में कोरोना के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। भारत में…

April 1, 2020

कोरोना का असर- केंद्र सरकार ने मनरेगा मजदूरों की मजदूरी Rs. 20 बढ़ाया

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस का असर लगातार बढ़ रहा है। देश में पूर्ण…

March 31, 2020

This website uses cookies.