Pakistan in Punjab! केंद्र सरकार ने सेना और बीएसएफ को जारी किया रेड अलर्ट

Pakistan in Punjab

नई दिल्ली। पाकिस्तान (Pakistan in Punjab) द्वारा चीन निर्मित ड्रोन के जरिए भारत में खालिस्तान समर्थक के पास हथियार भेजा जा रहा है। घटना के बाद केंद्र सरकार ने सेना और बीएसएफ को रेड अलर्ट जारी किया है। केंद्र सरकार ने सेना और बीएसएफ को सीमा और एलओसी पर कड़ी निगरानी रखने का निर्देश दिया है। बीएसएफ अधिकारी के मुताबिक, सरकार ने पाकिस्तान (Pakistan in Punjab) से लगती अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर किसी भी ड्रोन को देखते ही मार गिराने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें -   खुलासा: ऐसे रची गई निरंकारी समागम में हमले की साजिश

ड्रोन के जरिए भारत में आतंक समर्थक ग्रुप को हथियार भेजे जाने की घटना को केंद्र सरकार ने गंभीरता से लिया है। पाकिस्तान के इस हिमाकत के बाद केंद्र सरकार ने सुरक्षाबलों को निर्देश जारी किया गया है कि बॉर्डर पर किसी भी घुसपैठ की घटना पर कड़ी नजर रखें। इससे पहले भी पंजाब के तरन-तारन जिले से 4 खालिस्तानी आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था।

गिरफ्तार आतंकियों के पास भारी मात्रा में एके-47 सहित अन्य हथियार बरामद किया गया था। जांच में पाया गया था कि इन सभी हथियारों को ड्रोन की मदद से सीमा पार से भेजा गया था। वहीं पंजाब पुलिस के मुताबिक, अब भारतीय सीमा में ड्रोन 7 बात घुसपैठ कर चुका है।

यह भी पढ़ें -   भारत और फ्रांस के बीच 14 समझौतों पर हस्ताक्षर, मील का पत्थर साबित होगा समझौता

केंद्र सरकार से आदेश मिलते ही सेना ने कश्मीर के कुपवाड़ा, बारामूला, पुंछ और राजौरी के सीमावर्ती इलाकों में पैट्रोलिंग बढ़ा दी है। सीमा पार से किसी भी प्रकार के घुसपैठ की संभावना के देखते हुए किसी भी प्रकार का ड्रोन दिखने पर सीधा गोली मारने का आदेश जारी किया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दक्षिण पश्चिमी कमान के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आलोक सिंह ने कहा कि फिलहाल चिंता करने की कोई बात नहीं है।

यह भी पढ़ें -   दो हिस्सों में बंटा शताब्दी एक्सप्रेस, बाल-बाल बचे यात्री

मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस मामले में दखल देने की मांग की थी। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान अन्य तरीकों के जरिए इलाके में अशांति फैलाने की कोशिश में है। हालांकि पाकिस्तान द्वारा अभी तक की गई सभी कोशिशें नाकाम ही रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *