काव्यधारा

जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी

बबिता सिंह। जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी कहती नानी, कहती दादी कहता ये संसार बचा लो पानी ! कहता…

January 12, 2020

आंधी नहीं तूफ़ान हैं बेटियाँ

पुष्पांजलि शर्मा। हम सबका अभिमान हैं बेटियाँ भारत की शान हैं बेटियाँ सीता की अग्निपरीक्षा, अनसूया की त्याग हैं बेटियाँ…

September 7, 2018

जहाँ तुमसे है माँ…

पुष्पांजलि शर्मा। तुम साथ हो तो माँ... कुदरत भी साथ है, तुम्हारे बिना दिन भी रात है... तुमसे दूर भी…

August 30, 2018

वो…वो लड़की बहुत बड़ी हो गई…

नीलम सिंह। वो लड़की... वो लड़की बहुत बड़ी हो गई ... जो कल तक अकेले बहार निकलना ना जानती थी,…

June 11, 2018

This website uses cookies.