Categories: शख्सियत

चंद्रशेखर आजाद की जीवनी: एक प्रखर देशभक्त और अदभुत क्रांतिकारी

डेस्क। पण्डित चन्द्रशेखर ‘आजाद’ का जन्म 23 जुलाई 1906 में भाबरा नामक गॉंव में हुआ था। वर्तमान में यह अलीराजपुर जिला का भाग है। यह जगह चन्द्रशेखर आजादनगर के नाम जाता है। चंद्रशेखर आजाद (Biography of Chandrasekhar Azad) के पूर्वज बदरका के रहने वाले थे। वर्तमान में यह उन्नाव जिला के नाम से जाना जाता है। आजाद के पिता पण्डित सीताराम तिवारी अकाल के समय अपने पैतृक निवास बदरका को छोड़कर भाबरा में बस गये। यहीं बालक चन्द्रशेखर का बचपन बीता। उनकी माता का नाम जगरानी देवी था।

चंद्रशेखर आजाद की जीवनी (Biography of Chandrasekhar Azad)

चंद्रशेखर आजाद भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के स्वतंत्रता सेनानी थे। उनके साथ अन्य साथी क्रांतिकारी भी थे जैसे राम प्रसाद बिस्मिल और भगत सिंह। चंद्रशेखर आजाद गांधी जी के विचारधारा से बहुत प्रभावित थे। लेकिन 1922 में गांधी जी द्वारा अचानक असहयोग आंदोलन को बंद करने से उनके विचारधारा में बदलाव आ गया। बाद में वे क्रांतिकारी गतिविधियों से जुड़ गए। हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के सदस्य बनने के बाद उन्होंने 9 अगस्त 1924 को राम प्रसाद बिस्मिल के नेतृत्व में काकोरी काण्ड को अंजाम दिया।

क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद

हालांकि 1927 में बिस्मिल और चार अन्य साथियों के बलिदान के बाद उन्होंने सभी क्रांतिकारी पार्टियों को मिलाकर एक पार्टी हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन का गठन किया। एसोसिएशन के गठन के बाद उन्होंने भगत सिंह के साथ मिलकर लाहौर में लाला लाजपत राय की मौत का बदला सॉणडर्स की हत्या करके लिया। फिर दिल्ली पहुंचकर असेम्बली बम धमाके को अंजाम दिया।

आजाद एक प्रखर देशभक्त थे। वो अपने वेशभूषा में बदलाव भी बखूबी कर लेते थे। ऐसा कहा जाता है कि काकोरी काण्ड के बाद उन्होंने छिपने के लिए एक साधु का वेश बना लिया था। उन्होंने इसका उपयोग कई मौकों पर किया। एक बार की बात है वे अपने संगठन के लिए धन जुटाने के उद्देश्य से एक मरणासन्न साधु के पास चेला बनकर रहे। ताकि साधु की मौत के बाद मठ की संपत्ति उनके हाथ लग जाए। लेकिन उनके वहां पहुंचने के बाद साधु और अधिक बलवान और हट्टा-कट्टा होने लगा। जिसके बाद वे वापस लौट गए।

चंद्रशेखर आजाद की जीवन गाथा

एक बार दल के गठन के लिये वे बम्बई गये और वहाँ उन्होंने कई फिल्में देखीं। उस समय मूक फिल्मों का प्रचलन था अत: वे फिल्मों के प्रति विशेष आकर्षित नहीं हुए। चंद्रशेखर आजाद ने अपनी वीरता से देश को बहुत कुछ दिया। उनके बलिदान के बाद उनके द्वारा प्रारम्भ किया गया आंदोलन और तेज हो गया। हजारों युवक-युवतियां स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े। चंद्रशेखर आजाद मात्र 16 साल की छोटी उम्र में ही शहादत को प्राप्त हो गए। उनके शहादत के 16 साल बाद देश को आजादी मिली। चंन्द्रशेखर आजाद की जीवनी (Biography of Chandrasekhar Azad) से वीरता और कभी न झुकने की सीख मिलती है।

Recent Posts

मंत्रियों का काम अर्थव्यवस्था सुधारना है न कि सर्कस करना-प्रियंका गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Congress leader Priyanka Gandhi) ने नोबेल पुरस्कार के लिए चयनित अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी के…

October 19, 2019

Tejas Fighter Jet: भारत के लिए तेजस क्यों महत्वपूर्ण है? जानिए तेजस की खूबियां

डेस्क। लड़ाकू विमान तेजस (Tejas Fighter Jet) पूर्ण रूप से स्वदेशी लड़ाकू विमान है। तेजस को हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड ने…

October 18, 2019

2019 के लिए शांति का नोबेल पुरस्कार इथोपिया के पीएम अबी अहमद को मिला

नई दिल्ली। 2019 साल के लिए नोबेल पुरस्कार (Nobel Peace Prize 2019) इथोपिया पीएम अबी अहमद अली को मिला। उन्हें…

October 11, 2019

Pakistan in Punjab! केंद्र सरकार ने सेना और बीएसएफ को जारी किया रेड अलर्ट

नई दिल्ली। पाकिस्तान (Pakistan in Punjab) द्वारा चीन निर्मित ड्रोन के जरिए भारत में खालिस्तान समर्थक के पास हथियार भेजा…

September 26, 2019

Rajnath Singh on POK: ‘अब बात सिर्फ पीओके पर होगी’

पटना। पीएम मोदी रविवार को अमेरिका के ह्यूस्टन में आयोजित Howdy Modi कार्यक्रम के गवाह बने। पीएम मोदी ने ह्यूस्टन…

September 23, 2019

गले में खराश की समस्या को दूर करने के लिए अपनाएं यह टिप्स

डेस्क। क्या आप गले में खराश की समस्या से परेशान हैं। सर्दियों के मौसम में गले में खराश होना आम…

September 21, 2019

This website uses cookies.

Read More