भागलपुर हिंसा: अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत

पटना। भागलपुर हिंसा मामले में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। बता दें कि भागलपुर में अर्जित पर सांप्रदायिक हिंसा भड़काने का आरोप है। इसी आरोप में अर्जित को पटना से भागलपुर लाया गया है।

उधर कोर्ट के फैसले के बाद मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि शाश्वत के खिलाफ विपक्षी पार्टियों ने झूठी FIR दर्ज करवाई थी। जब उसकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज हो गई तो शाश्वत ने कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए सरेंडर कर दिया। उन्होंने कहा कि हम मांग करते हैं कि मामले की केंद्र और राज्य की एजेंसियों द्वारा निष्पक्ष जांच करवाएं।

जम्मू-कश्मीर में अलग-अलग एनकाउंटर में 11 आतंकी ढेर, 2 जवान भी हुए शहीद

वहीं पुलिस का दावा है कि उन्हें गिरफ्तार किया गया है जबकि अर्जित ने मीडिया के सामने आकर कहा कि उन्होंने कोर्ट के फैसले के बाद सरेंडर किया है। शनिवार देर रात शाश्वत दर्जनों समर्थकों के साथ शास्त्रीनगर के हनुमान मंदिर पहुंचे थे। यहां एडिशनल एसपी राकेश दुबे की अगुवाई में स्पेशल ब्रांच की टीम ने उन्हें हिरासत में लिया।

अर्जित ने कहा कि उन्हें बेवजह फंसाया जा रहा है। अर्जित ने कहा कि वह न्यायालय का पूरा सम्मान करते हैं और इसलिए वह यहां आए हैं। उन्होंने कहा कि अगर मुझे भागना होता तो मैं यहां नहीं आता। मैं एक सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता हूं। उन्होंने कहा कि अगर यहां जय श्रीराम, वंदेमातरम और भारत माता की जय बोलना अपराध है तो मैं अपराधी हूं।

यह भी पढ़ें-

ग्लैमर की दुनिया की ये महिला कलाकार जिन्होंने खुदकुशी कर ली

ओमपुरी के पांच ऐसे बयान जिसके कारण उनको माफी मांगनी पड़ी

आने वाली है सबसे तेज टेक्नोलॉजी, प्लेन से भी पहले पहुंचाएगी गन्तव्य स्थान पर


मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें