काव्यधारा

जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी

बबिता सिंह।

जीवन है अनमोल,
ना करो मनमानी
कहती नानी, कहती दादी
कहता ये संसार
बचा लो पानी !

कहता नन्हा- मुन्ना पौधा,
कहता गॉऺव- खलिहान
पानी अगर समाप्त हुआ
तो मिटेगा सारा जहान
बचा लो पानी!

फूलों की बगिया मुरझाए,
होंगे खेत वीरान
धरती की हरियाली सारी
बन जाएगी रेगिस्तान
बचा लो पानी!

हरी-भरी धरती झूमे,
पेड़ लगाकर जगत बचाओ
जल है बहुमूल्य भैया
ना इसे व्यर्थ बहाओ
बचा लो पानी!

Share

Recent Posts

Free Fire Redeem Code: 24 January 2022 का फ्री फायर रिडीम कोड कैसे प्राप्त करें

Free Fire Redeem Code: फ्री फायर गेम का रिडीम कोड कैसे प्राप्त करें। आज इस…

Desiremovies Websites List 2022: जहां से नई South Movies Pushpa हुई लीक

Desiremovies Website List 2022: Tamil Rockers की तरह ही Desiremovies Websites भी हाल की रिलीज…

धर्मयात्रा महासंघ के 28 वें स्थापना दिवस व मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर हवन पूजन का कार्यक्रम

धर्मयात्रा महासंघ के 28वें स्थापना दिवस व मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर हवन पूजन…

This website uses cookies.

Read More