आने वाली है सबसे तेज टेक्नोलॉजी, प्लेन से भी पहले पहुंचाएगी गन्तव्य स्थान पर

नई दिल्ली। दुनिया में रोज नई तकनीक का विकास हो रहा है। यह सिर्फ एक क्षेत्र में नहीं है बल्कि हर क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का विकास हो रहा है। अब एक नई टेक्नोलॉजी ट्रास्पोर्ट के क्षेत्र में आने वाली है। खबर है कि इस तकनीक के आने के बाद यात्रा समय में लगने वाले समय में बहुत ज्यादा बजत हो जाएगा। इस टेक्नोलॉजी के आने के बाद यात्री प्लेन के गति से भी जल्दी अपने गन्तव्य पर पहुंच जाएंगे।

अब तक ट्रांसपोर्टेशन के लिए 3 रास्तों का यूज किया जाता है। जिसमें जमीन पर चलने वाले व्हीकल, पानी के जहाज और ऐरोप्लेन है। लेकिन अब एक अन्य महत्वपूर्ण ट्रांस्पोर्ट सिस्टम का विकास होने जा रहा है। अब ट्रांसपोर्टेशन के क्षेत्र में क्रांतिकारी टेक्नोलॉजी आने वाली है जिसे हाइपर लूप कहते हैं। इस टेक्नोलॉजी के आने के बाद जीवन की रफ्तार और फास्ट हो जाएगी।

पेरिस समझौते से बाहर हुआ अमेरिका, भारत और चीन को ठहराया दोषी

जानकारी के मुताबिक, इस टेक्नोलॉजी में लोग एक स्टील के ट्यूब के अंदर एक कैप्सूल के जैसा पॉड में बैठकर सफर करेंगे। यह ट्यूब स्टील की बनी होगी और धरती के कुछ ऊंचाई पर स्थित होगी। इसमें एक सुरंग होगा जिसके अंदर ट्रेने हाई स्पीड में चलेगी।

इस स्टील ट्यूब में ऑलमॉस्ट वैक्यूम होगा और ये पॉड हवा में ही मूव करेंगे। जिसकी वजह से बहुत कम एयर रजिस्टेंस मिलेगा और पॉड की स्पीड 900 से 1200 km/hr की रहेगी, जो कि एरोप्लेन की स्पीड से भी तेज है। इसके साथ-साथ यह बैटरी सिस्टम से चलेगा जो सोलर एनर्जी का उपयोग करेगा।

इस तकनीक का सबसे बड़ा फायदा ये है कि इससे वातावरण को कोई नुकसान नहीं होगा। इस तकनीक से एयर और न्वॉइस पॉल्यूशन नहीं होगा। इसके साथ ही इसमें ट्रेवलिंग का खर्च भी बहुत कम जाएगा।

यह भी पढ़ें-

ग्लैमर की दुनिया की ये महिला कलाकार जिन्होंने खुदकुशी कर ली

हरियाणा के फरीदाबाद में लड़की के भूत ने बताया अपने कब्र का पता

क्या आपको पता है कि इन चार समय पर नहीं मापना चाहिए वजन


मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Show comments

This website uses cookies.

Read More